mptak
Search Icon

MP: 13 दिन पहले जिस बेटे का किया था अंतिम संस्कार, वह अचानक जिंदा लौट आया, हैरान करने वाला मामला

एमपी तक

ADVERTISEMENT

 सफेद गमछे में सुरेंद्र शर्मा
सफेद गमछे में सुरेंद्र शर्मा
social share
google news

MP News: मध्यप्रदेश के श्योपुर के एक गांव में हैरान करने वाला अजीबो-गरीब मामला सामने आया है. यहां जिस युवक का अंतिम संस्कार परिवार जन कर चुके थे. वह अचानक अपनी तेरहवीं के दिन घर वापस लौट आया. जिस बेटे की पार्थिव देह का मां-बाप अंतिम संस्कार कर चुके थे. उसे अचानक अपने सामने जीता जागता खड़ा देख परिवार ईश्वर का कोटि कोटि आभार जता रहा है. इस पूरे घटनाक्रम के बाद अब सवाल उठ रहा है. कि, जिस युवक का अंतिम संस्कार दीनदयाल शर्मा का परिवार कर चुका है आखिर वह कौन था? 

सोशल मीडिया से लगी मौत की खबर

जानकारी के मुताबिक बीते दिनों सोशल मीडिया पर एक दुर्घटना का फोटो जारी हुआ था. जिसमें किसी अज्ञात युवक का राजस्थान में सवाई माधोपुर के पास सुरवाल में गंभीर एक्सीडेंट बताते हुए मदद की गुहार की गई थी. सोशल मीडिया के माध्यम से यह फोटो जब श्योपुर जिले के ग्राम लहचौड़ा स्थित दीनदयाल शर्मा के परिजनों को मिली तो उन्होंने उक्त दुर्घटना में घायल युवक की पहचान सुरेंद्र शर्मा के रूप में कर डाली और आनन फानन में सवाई माधोपुर से जयपुर पहुंच गए. जहां उसे इलाज के लिए रेफर किया गया था. परिजन जयपुर पहुंचे डॉक्टरों ने बताया कि इलाज के दौरान सुरेंद्र की मौत हो चुकी है.

ये भी पढ़ें: Indore: PM मोदी के शपथ ग्रहण का जश्न मना रहे थे भाजपा कार्यकर्ता, तभी हुआ बड़ा हादसा, बीजेपी ऑफिस में भीषण आग से मचा हड़कंप

ADVERTISEMENT

यह भी पढ़ें...

तेरहवीं से पहले युवक पहुंचा घर

पोस्टमार्टम से पहले पहचान करने सहित सारी जरूर औपचारिकता पूरी करने के बाद अस्पताल प्रबंधन और पुलिस ने शव परिजनों को सौंप दिया. बीती 28 मई को लहचोडा में शव का अंतिम संस्कार भी कर दिया. इसके बाद जब उसकी तेहरवीं की तैयारी चल रही थी. तभी सुरेंद्र घर आ गया. जिसे देख पूरा गांव कोतूहल से भर उठा. परिजनों की आंखों से खुशी की गंगा बह निकली.

परिवार के साथ सुरेंद्र

फोन कर खुद के जिंदा होने की दी जानकारी

ग्राम लहचौडा स्थित सुरेंद्र के घर में जब तेरहवीं की तैयारी चल रही थी. परिवार के सारे लोग सुरेंद्र की मौत से दुखी बने हुए थे. तेरहवीं से एक दिन पहले सुरेंद्र का फोन उसके भाई के पास आया. पहले तो भाई ने मजाक समझा और बाद में वीडियो कॉल लगाने के लिए बोला. जब सुरेंद्र ने वीडियो कॉल लगाया तो परिजनों ने उससे बात की और घर लौट आने को बोला. इसके बाद दूसरे दिन ही सुरेंद्र घर लौट आया और तेहरवीं की जो तैयारी की गई थी. वह सब स्थगित कर दी गई.

ADVERTISEMENT

ये भी पढ़ें: Gwalior News: बीजेपी विधायक के भाई की मौत की खबर से मचा हड़कंप, हाईप्रोफाइल मामले की जांच में जुटी पुलिस

ADVERTISEMENT

ऐसे मिली थी सुरेंद्र के दुर्घटना में मृत होने की सूचना

राजस्थान के सुरवाल में जिस युवक की मौत एक्सीडेंट से हुई थी. उसकी जेब में कुशवाह ढाबा श्योपुर के नाम से खाने का बिल रखा मिला था. इसी आधार पर सुरवाल पुलिस मृतक की पहचान करने श्योपुर आई. जहां उन्होंने समाजसेवी बिहारी सिंह सोलंकी सहित कुछ लोगों को फोटो दिखाएं. बिहारी सिंह सोलंकी ने उक्त फोटो को सोशल मीडिया पर डाल दिया. जिसकी पहचान सुरेंद्र के परिजनों ने सुरेंद के रूप में कर डाली और उसका अंतिम संस्कार भी शव को जयपुर से लाकर कर डाला.

सुरेंद्र शर्मा का कहना है कि वह जयपुर शहर में कपड़े के कारखाने में सुपरवाइजर के पद पर काम करता है. यह पिछले महीने घर पर छुट्टी काटकर वापस अपनी नौकरी करने जयपुर गया था. इसी दौरान मेरा मोबाइल फोन खराब हो गया और 2 महीने तक घरवालों से उसका संपर्क नहीं हो सका. 

पुलिस दोबारा करेगी मामले की जांच

सूरवाल थाना इंचार्ज लाल बहादुर मीणा ने MPtak को फोन कॉल पर बताया, मृतक की सुरेंद्र शर्मा के रूप में पहचान कर पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौप गया था. अब पता चला है कि सुरेंद्र जिंदा है. इस मामले में परिजनों को बुलवाया है. दोबारा जांच को जा रही है. 

ये भी पढ़ें: Chhindwara: बुर्का पहनकर करते थे जीजा-साले चोरी, फिर भी सीसीटीवी कैमरों ने कैसे पहचान लिया! जानें

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT