अपना मध्यप्रदेश आपका जिला भोपाल मुख्य खबरें

मध्य प्रदेश में यहां अजब परंपरा, नवजात बच्चों को गोबर पर लिटा देते हैं, जानें क्यों?

सीहोर में गोवर्धन पूजा के मौके पर अजीबो गरीब परंपरा देखने को मिली. सालों पुरानी इस परंपरा के मुताबिक बच्चों को गोबर के ऊपर लेटाने से बीमारियां दूर रहती हैं.
Updated At: Nov 14, 2023 19:09 PM
Strange tradition in Sehore Madhya Pradesh, govardhan pooja sehore, Diwali 2023, MP News, Sehore, Madhya Pradesh
वजात बच्चों को गोबर पर लिटा देते हैं, जानें क्यों?, फोटो- एमपी तक

Diwali 2023: त्यौहारों के मौके पर मध्य प्रदेश में अलग-अलग परंपराएं निभाई जाती हैं. एमपी के सीहोर (Sehore) में गोवर्धन पूजा (Govardhan Pooja) के मौके पर अजीबो गरीब परंपरा देखने को मिली. सालों पुरानी इस परंपरा के मुताबिक नवजात बच्चों को गोबर के ऊपर लेटाने से बीमारियां दूर रहती हैं, इसीलिए बच्चों को गोबर के ऊपर लेटाया जाता है.

सीहोर जिले में गोर्वधन पूजा का पर्व धूमधाम से मनाया जाता है. दीपावली के दूसरे दिन गोवर्धन की पूजा की जाती है. यादव समाज के लोग इस पर्व को अलग परंपरा और रीति-रिवाजों के साथ मनाते हैं. इस दिन यादव समाज के लोग गोवर्धन पर्व मनाते हैं.

Strange tradition in Sehore Madhya Pradesh, govardhan pooja sehore, Diwali 2023, MP News, Sehore, Madhya Pradesh

ये भी पढ़ें: अजब-गजब परंपरा, उज्जैन में मनोकामना पूरी करने के लिए जमीन पर लेटते हैं लोग, उन्हें रौंदती हैं गायें

बच्चे स्वस्थ रहें इसलिए गोवर्धन पर लेटाते हैं

दीपावली के दूसरे दिन गोवर्धन पूजा की जाती है, लेकिन इस बार ग्रहण के चलते ये पर्व एक दिन लेट मनाया गया. सीहोर जिले में मंगलवार को यादव समाज के लोग इकट्ठा हुए. यादव समाज के लोगों ने गोवर्धन की पूजा-अर्चना करने के बाद छोटे बच्चों को गोवर्धन पर बैठाया-लिटाया और बच्चों के स्वास्थ्य की कामना की. इस अनोखी परंपरा के वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं.

ये भी पढ़ें: एशिया की सबसे बड़ी कुबेर प्रतिमा MP के विदिशा में, धनतेरस को होती है पूजा-अर्चना

सालों से चली आ रही प्राचीन परंपरा

कार्तिक महीने की प्रतिपदा के दिन गोवर्धन पूजा का पर्व मनाया जाता है. इस दिन गाय के गोबर से गोवर्धन बनाते हैं और उसकी पूजा की जाती है. यादव समाज के संरक्षक घनश्याम यादव ने बताया कि ये प्राचीन परंपरा सालों से इसी तरह चली आ रही है. ऐसी मान्यता है कि बच्चों को गोवर्धन पर लेटाने से बच्चे स्वस्थ रहते हैं. इसलिए बच्चों को गोर्वधन पर स्पर्श कराया जाता है.

Strange tradition in Sehore Madhya Pradesh, govardhan pooja sehore, Diwali 2023, MP News, Sehore, Madhya Pradesh

 

उज्जैन की अनोखी परंपरा

इससे पहले उज्जैन जिले में अजीब गरीब परंपरा देखने को मिली थी. उज्जैन के बड़नगर के भिदावद गांव में सभी लोग चौक पर इकट्ठे होते हैं. लोग सड़क पर लेट जाते हैं और गायों को छोड़ दिया जाता है. गाय उनके ऊपर चलती जाती हैं और लोगों को रौंदती जाती हैं. ये परंपरा वर्षों पुरानी है और सालों से इसी तरह निभाई जा रही है.

ये भी पढ़ें: केपी सिंह की गढ़ी के सामने से गुजर रहा था BJP प्रत्याशी का काफिला, तभी हो गया बवाल

मध्य प्रदेश की लेटेस्ट खबरों से अपडेट रहने के लिए Mp Tak पर क्लिक करें
संगमरमर के पहाड़ों के बीच चलती हैं नावें, यहां की खूबसूरती देखते रह जाएंगे विंध्य पहाड़ियों पर बसा है मध्य प्रदेश का ‘खुशियों का गांव’, दुनियाभर में है चर्चित MP की इस गुफा में की थी महाबली भीम ने तपस्या! हजारों साल पहले से मौजूद हैं शैलचित्र कितने अमीर हैं बागेश्वर बाबा, एक कथा आयोजन पर कितना आता है खर्चा? जानें कुमार विश्वास एक रामकथा का कितना चार्ज करते हैं? जानकर चकरा जाएंगे आप चट्टानों को तराशकर हजारों साल पहले बनाए गए हैं ये मंदिर, शिल्प की सुंदरता कर देगी हैरान चंबल में गुंडों से घिर गई लड़की के संघर्ष की कहानी है ‘अपूर्वा’, चर्चा में फिल्म बेमौसम बारिश से कांपा मध्य प्रदेश, IMD ने बताया अभी नहीं मिलेगी राहत ऑस्कर की दौड़ में शामिल हुई चंबल के ’12th फेल’ IPS मनोज शर्मा की कहानी? एक समय इस पहाड़ी एक्ट्रेस को डेट कर रहे थे Nawazuddin Siddiqui! फिर हुआ विवाद भीड़भाड़ से दूर MP में है ये खूबसूरत जगह, गोवा से ज्यादा दिलकश हैं नजारे मध्य प्रदेश में है ये खूबसूरत जगह, जिस पर आया IAS सृष्टि का दिल MP में यहां खुद सरकार चलाते हैं रामराजा! पुलिस भी देती है सलामी ‘द रेलवे मैन’ सीरीज से चर्चा में आई ये एक्ट्रेस, पिता चलाते थे ट्रक MP में यहां संगमरमरी वादियों के बीच होती है बोटिंग, यूरोप जैसे खूबसूरत लगते हैं नजारे MP में मिलता है टिकट और राजस्थान में लगती है लाइन! अनोखा है ये रेलवे स्टेशन MP का ये लड़का बना सबसे कम उम्र का IES ऑफिसर, कैसे किया कमाल इंदौर आए हैं और ये 5 स्पॉट नहीं देखे तो यात्रा का मजा रह जाएगा अधूरा रात में ही क्यों गुलजार होता है इंदौर का सराफा बाजार? दिलचस्प है वजह 750 साल पुराना है चंदेरी की साड़ियों का इतिहास? जानें क्यों होती हैं इतनी महंगी?