mptak
Search Icon

Hathras accident: हाथरस भगदड़ में जान गंवाने वालों में ग्वालियर की भी महिला, सीएम मोहन यादव ने जताया दुख

एमपी तक

ADVERTISEMENT

Mohan Yadav
Mohan Yadav
social share
google news

Hathras accident: यूपी के हाथरस में बीते रोज एक कथा के आयोजन के दौरान भगदड़ मच गई थी, जिसमें एक सैकड़ा से अधिक लोगों ने जान गंवा दी. मरने वालों में मध्यप्रदेश के ग्वालियर की एक महिला भी शामिल है. सीएम मोहन यादव ने एक्स पर अपनी पोस्ट के जरिए ये जानकारी सार्वजनिक की. उन्होंने इसे लेकर दुख जताया है.

सीएम मोहन यादव ने एक्स पर पोस्ट करके बताया है कि "उत्तर प्रदेश के हाथरस में कल सत्संग के दौरान भगदड़ में ग्वालियर की हमारी बहन रामश्री धर्मपत्नी दयाल सिंह जी के निधन का समाचार अत्यंत दुखद है. ईश्वर की कृपा से सत्संग में शामिल होने गई म.प्र. की 3 अन्य महिलाएं सकुशल हैं. हम स्थानीय पुलिस-प्रशासन से संपर्क में हैं. बाबा महाकाल से प्रार्थना है कि दिवंगत आत्मा को मोक्ष प्रदान करें तथा शोकाकुल परिजनों को गहन दु:ख सहन करने की शक्ति प्रदान करें.।।ॐ शांति।।".

 

हाथरस के हादसे से पूरा देश हिल गया है. आपको बता दें कि यूपी के हाथरस जिले में सिकंदरा राऊ कस्बे में एक गांव है फुलरई. यहां पर एक सत्संग कार्यक्रम बीते रोज आयोजित किया गया था. इसे भोले बाबा नाम के कथित बाबा ने आयोजित किया था. कभी यूपी पुलिस में कांस्टेबल रहे सूरजपाल नौकरी छोड़कर नारायण हरि साकार उर्फ भोले बाबा बन गया था. बिना किसी व्यवस्था और पर्याप्त परमिशन के बिना ही सत्संग कार्यक्रम आयोजित कर दिया, जिसमें 50 हजार से अधिक लोग जमा हो गए. यहां मची भगदड़ की वजह से अब तक 121 लोगों की मौत हो चुकी है, जिसमें सबसे अधिक संख्या महिलाएं और बच्चों की हैं.

मप्र से गई थीं चार महिलाएं

सीएम मोहन यादव ने अपनी पोस्ट में इस बात का खुलासा किया है कि कथित बाबा, भोले बाबा के इस आयोजन में मध्यप्रदेश से भी चार महिलाएं हाथरस में आयोजित इस कार्यक्रम में शामिल होने गई थीं. लेकिन उनमें से एक ग्वालियर की महिला रामश्री धर्मपत्नी दयाल सिंह की मृत्यु इस भगदड़ में हुई है लेकिन शेष 3 महिलाएं सुरक्षित हैं. शेष 3 महिलाओं के नाम का जिक्र सीएम मोहन यादव ने अपनी पोस्ट में नहीं किया है. कुल मिलाकर इस हादसे ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया है.

ADVERTISEMENT

यह भी पढ़ें...

ये भी पढ़ें- MP Budget 2024: मोहन सरकार के पहले बजट ने क्या सबको सबकुछ दे दिया या रह गई कोई कसर? जानें

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT