mptak
Search Icon

1 जुलाई से 30 सितम्बर तक पर्यटकों के लिए बंद रहेगा कान्हा टाइगर रिज़र्व, जानें क्या है वजह

सैयद जावेद अली

ADVERTISEMENT

mp news, kanha tiger reserve, mp tourism
mp news, kanha tiger reserve, mp tourism
social share
google news

mp news: 1 जुलाई से 30 सितम्बर तक विश्व प्रसिद्ध कान्हा टाइगर रिज़र्व पर्यटकों के लिए बंद रहेगा. 30 जून को इस सीजन का आखरी दिन था. जब पर्यटकों ने वन और वन्य प्राणियों का दीदार किया. अब वाइल्ड लाइफ टूरिज्म के शौकीनों को पूरे तीन माह तक पार्क खुलने का इंतजार करना पड़ेगा. इस वर्ष कान्हा में पिछले साल के मुकाबले अधिक पर्यटक पहुंचे थे.

कोर एरिया के अलावा बफर क्षेत्र में भी पर्यटकों की तादाद बढ़ी है. पर्यटकों को संख्या बढ़ने से पार्क प्रबंधन काफी खुश है और इसे अच्छा टूरिज्म सीजन बता रहा है. मानसून सीजन में पार्क को पर्यटकों के लिए बंद कर दिय जाता है. जब पार्क बंद जाता है तो पार्क प्रबंधन को उसे 20 प्रतिशत क्षेत्र में भी गश्त बढ़ानी पड़ती है जो पर्यटन क्षेत्र में आता है. मानसून सीजन में पार्क की सुरक्षा के लिए स्पेशल मानसून पेट्रोलिंग  प्रोग्राम चलता है जिसमे फील्ड डायरेक्टर से लेकर मैदानी अमला तक पेट्रोलिंग करता है।

कान्हा टाइगर रिज़र्व, मंडला के फील्ड डायरेक्टर एसके सिंह बताते हैं कि वर्ष 2022 – 23 का जो टूरिज्म सीजन था, वह हमारे पार्क के टूरिज्म के हिसाब से काफी अच्छा था. गत वर्ष हम लोगों के पास करीब 2 लाख 13 हज़ार पर्यटक आए थे. वर्तमान वर्ष में इनकी संख्या 2 लाख 24 हज़ार हो गई.

ADVERTISEMENT

यह भी पढ़ें...

पर्यटकों की संख्या में हुआ जबरदस्त इजाफा
एसके सिंह बताते हैं कि पर्यटकों की संख्या में जबरदस्त इजाफा हुआ है. करीब 16 हज़ार विदेशी पर्यटक इस बार आए. बफर ज़ोन में भी इस बार काफी गतिविधियां थी. लगभग 30 हज़ार पर्यटक आए, पिछले साल 17 हज़ार पर्यटक आए थे. पर्यटकों की दृष्टि से देखें तो यह साल काफी सफल रहा. रोजगार की दृष्टि से भी देखे तो क्षेत्र में हैं जो रिसोर्ट है, टूरिस्ट डेस्टिनेशन है, जो लोगों को सुविधा उपलब्ध कराते हैं, सबको अच्छा अवसर मिला है इस सीजन में.

पार्क बंद होगा लेकिन बफर में टूरिज्म चालू रहेगा
पार्क प्रबंधन के अनुसार पार्क बंद हो रहा है लेकिन बफर जोन में टूरिज्म चालू रहेगा. मौसम ने यदि साथ दिया तो पार्क पुनः1 अक्टूबर से खुलेगा. पार्क बंद होने के समय टूरिज्म एरिया तो 20 प्रतिशत ही होता है लेकिन नॉन टूरिज्म क्षेत्र 80 प्रतिशत रहता है. उसमें कंजर्वेशन और प्रोटेक्शन के हिसाब से गश्ती का काम और हैबिटेट डेवलपमेंट का काम होता है.

ADVERTISEMENT

ये भी पढ़ेंकूनो नेशनल पार्क की हद से बाहर निकली चीता ‘गामिनी’, लेकिन वन विभाग कर रहा इस बात का इंतजार

ADVERTISEMENT

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT