mptak
Search Icon

MP: अतिथि शिक्षकों को बाहर करेगी मध्य प्रदेश सरकार? एक ऑर्डर ने बढ़ाई सबकी टेंशन

एमपी तक

ADVERTISEMENT

अतिथि शिक्षकों की नौकरी पर संकट?
अतिथि शिक्षकों की नौकरी पर संकट?
social share
google news

MP News: मध्य प्रदेश में लोक शिक्षा विभाग की तरफ से एक पत्र जारी किया गया है. जिसके बाद से मध्य प्रदेश के हजारों अतिथि शिक्षकों की चिंता बढ़ गई है. जारी किए गए पत्र में 30 फीसदी से कम रिजल्ट लाने वाले अतिथि शिक्षकों को नौकरी पर न रखे जाने की बात कही गई है. क्या है पूरा मामला जिसके बाद अतिथि शिक्षकों माथे पर चिंता की लकीरें खिंच गईं हैं. आइये जानते हैं..

क्या है पूरा मामला?

हाल ही में मध्य प्रदेश बोर्ड यानि कि MP बोर्ड के रिजल्ट जारी किए गए थे. इस रिजल्ट में पास करने वाले बच्चों का जो प्रतिशत था वो इस बार ज्यादा बेहतर नहीं रहा है. ये इस बार ये आंकड़ा 70 फीसदी का भी पार नहीं कर पाया है. आपको बता दें जो 10वी और 12वीं के छात्रों का औसत पासिंग प्रतिशत रहा वो 60 से 65 प्रतिशत के बीच रहा है. इसके बाद प्रदेश की शिक्षा व्यवस्था को लेकर कई तरह के सवाल उठने लगे हैं. आखिर मध्य प्रदेश के स्कूल का स्तर इतना गिरा हुआ है? जो सिर्फ 60 से 65 फीसदी बच्चे ही बोर्ड परीक्षा पास कर पा रहे हैं. 

ये भी पढ़ें: MP: भीषण गर्मी का तांडव! ग्वालियर में लू लगने से भाई-बहन की मौत, कलेक्टर ने जारी किए निर्देश

ADVERTISEMENT

यह भी पढ़ें...

परीक्षा परिणाम आने के बाद हुई थी जांच

परीक्षा परिणाम के आंकड़े सामने आने के बाद जांच की गई. और अब इस पूरे खराब रिजल्ट का ठीकरा अतिथि शिक्षकों पर फोड़ा जा रहा है. आपको बता दें बोर्ड परीक्षाओं का परिणाम बिगड़ने के बाद सरकार ने अधिकारियों से इसके पीछे का कारण पूछा था. जिसके बाद स्कूल प्रिंसिपल्स ने इसके पीछे का कारण अतिथि शिक्षकों को बताया है.

आपको बता दें शाासन ने अतिथि शिक्षकों को बाहर करने का आदेश जारी कर दिया है. लोक शिक्षण संचनालय मध्य प्रदेश के एक आदेश के हवाले से कहा गया है कि "30 प्रतिशत से कम परीक्षा परिणाम वाले अतिथि शिक्षकों को इस बार न रखने की बात कही गई है. आपको बता दें पिछले दिनों लोक शिक्षण संचनालय में पिछले दिनों एक बैठक का आयोजन किया गया था. इसी बैठक में अतिथि शिक्षकों को बाहर करने का फैसला लिया गया है." 

ADVERTISEMENT

15 हजार अतिथि शिक्षकों को किया जा सकता है बाहर

मध्य प्रदेश में पिछले दिनों जब बोर्ड परीक्षाओं के परिणाम सामने आए थे. तभी से ये सवाल उठने लगे थे. कि आखिर मध्य प्रदेश शिक्षा इतनी खराब है. जो इस तरीके से गिरा हुआ रिजल्ट देखने को मिल रहा है. अब इस पूरे खराब रिजल्ट का ठीकरा अतिथि शिक्षकों के सिर पर फोड़ दिया गया है. माना जा रहा है इससे प्रभावित होकर 30 फीसदी से कम अंक पाने वाले अतिथि शिक्षकों को जो कि करीब 15 हजार से अधिक हैं.  जिनको नौकरी से बाहर किया जा सकता है. 

ADVERTISEMENT

हालांकि इस पूरे मामले पर अतिथि शिक्षकों के संघ का क्या फैसला रहता है, ये देखना होगा. लेकिन इस पत्र के जारी होने के बाद कई अतिथि शिक्षकों के माथे पर चिंता की लकीरें आ गईं हैं. 

ये भी पढ़ें: विदाई समारोह में MP हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश रवि मलिमथ का ये बयान हो रहा वायरल, "मेरे बहुत से दुश्मन हैं, लेकिन.."

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT