mptak
Search Icon

Jabalpur News: पिता-पुत्र के दोहरे हत्याकांड को अंजाम देने वाले कातिलों के इरादे थे बेहद खतरनाक

धीरज शाह

ADVERTISEMENT

Jabalpur Double Murder
Jabalpur Double Murder
social share
google news

Jabalpur Double Murder: जबलपुर में पिता-पुत्र के दोहरे हत्याकांड को अंजाम देने वाले दोनों मुख्य आरोपी पुलिस की गिरफ्त में हैं. पुलिस पूछताछ में दोनों आरोपियों ने जो बयान दिए हैं, उनसे जाहिर होता है कि आरोपियों के इरादें बेहद खतरनाक थे और वे सिर्फ दो लोगों की हत्या तक सीमित नहीं रहने वाले थे.

जबलपुर में हुए पिता और पुत्र के दोहरे हत्याकांड के मामले में मुख्य आरोपी मुकुल सिंह ने पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया है. इस हत्याकांड में शामिल मृतक की नाबालिक बेटी को भी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस के मुताबिक इस हत्याकांड में मुख्य आरोपी मुकुल सिंह और उसकी 16 साल की प्रेमिका की बराबर भूमिका थी. उन्होंने बताया कि 2 दिन पहले हरिद्वार में नाबालिग प्रेमिका के पकड़े जाने के बाद मुकुल सिंह टूट गया था. उसको अंदेशा था कि कहीं प्रेमिका पिता और भाई के डबल मर्डर का दोषी उसे ना बता दे. इस डर से उसने जबलपुर पुलिस के सामने गुरुवार की रात को सरेंडर कर दिया.

पुलिस ने बताया कि सितंबर माह में मृतक राजकुमार विश्वकर्मा ने अपनी नाबालिग बेटी के प्रेमी मुकुल सिंह के खिलाफ सिविल लाइंस थाने में पाक्सो एक्ट का मुकदमा दर्ज कराया था. इस मामले में जेल से छूटने के बाद आरोपी मुकुल सिंह अपनी नाबालिग प्रेमिका के साथ मिलकर उसके पिता को रास्ते से हटाने का प्लान बना रहा था. 

पिता को बचाने आया 8 साल का बालक, उसे भी मार डाला

पुलिस के मुताबिक कई महीनों की प्लानिंग के बाद 14 मार्च की रात के आसपास आरोपी मुकुल सिंह मिलेनियम कालोनी स्थित राजकुमार विश्वकर्मा के फ्लैट पर पहुँचा और अपनी नाबालिग प्रेमिका के साथ मिलकर उनका कत्ल कर दिया. इसी बीच नाबालिग प्रेमिका का 8 साल का भाई तनिष्क अपने पिता को बचाने के लिए आया तो मुकुल ने धारदार हथियार के प्रहार से उसकी भी हत्या कर दी.

ADVERTISEMENT

यह भी पढ़ें...

शवों के टुकड़े-टुकड़े करने का था कातिलों का इरादा

दोनों आरोपियों का इरादा शव को टुकड़े-टुकड़े करके ठिकाने लगाने का था लेकिन खून देखकर वे डर गए. एसपी आदित्य प्रताप सिंह के मुताबिक कत्ल के बाद उन्होंने दोनों सबको पॉलिथीन में पैक किया. भाई के शव को फ्रिज के अंदर रख दिया. आरोपियों ने घटना के बाद खून साफ किया. घर में अगरबत्ती लगा दी, ताकि शव की बदबू आसपास न फैले. सुबह होते ही दोनों फरार हो गए. दोनों आरोपियों ने देश के अलग-अलग राज्यों में दिन काटे और जब पैसा खत्म हो गया तो हरिद्वार के एक आश्रम में शरण ले ली.

सीने पर पांच नरमुंड वाला शैतानी टैटू बनाकर घूम रहा था मुख्य आरोपी

जबलपुर में हुए दोहरे हत्याकांड का मुख्य आरोपी मुकुल की योजना एक कुख्यात अपराधी की तरह थी. मुकुल के इरादे बेहद खतरनाक थे. हत्या का सिलसिला पिता तक रुकने वाला नहीं था. मुकुल के इरादे थे कि उसे पांच लोगों को मौत के घाट उतारना है और इसीलिए मुकुल ने अपने सीने पर पांच नरमुंड वाला शैतानी टैटू भी बनवा कर रखा था. अब इस सब के पीछे बड़ी वजह यह थी कि मुकुल के खिलाफ नाबालिक लड़की के पिता ने रेप का मामले में जेल पहुंचा दिया था और इसीलिए मुकुल के सीने में बदले की आग जल रही थी.

ADVERTISEMENT

इन 5 लोगों को भी मारना चाहता था मुख्य आरोपी

मुकुल ने जेल से छूटने के बाद पांच लोगों को मौत के घाट उतारने की योजना बनाई जिसमें पहला नंबर तो प्रेमिका का पिता यानी कि राजकुमार विश्वकर्मा था, दूसरा प्रेमिका की रिश्तेदार महिला थी, जो प्रेमिका से बातचीत करने के लिए रोकती थी.  तीसरा एक पड़ोसी था जो अक्सर मुकुल को उसकी हरकतों के लिए टोकता था. चौथा एक महिला एसआई भी थी जिसने रेप के मामले पर जांच की थी और पांचवा और आखिरी नंबर खुद प्रेमिका का था. मुकुल को डर था की प्रेमिका भी उसके खिलाफ रेप के मामले में बयान दे सकती है. 

ADVERTISEMENT

ये भी पढ़ें- Chhindwara Murder Case: शादी के बाद ऐसा क्या हुआ कि भूरा ने पत्नी समेत 8 लोगों को उतार दिया मौत के घाट?

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT