mptak
Search Icon

MP में फिर गूंजा व्यापमं घोटाला, दलाल बना सरकारी गवाह तो 3 को हो गई 4-4 साल की सजा

हेमंत शर्मा

ADVERTISEMENT

MP Vyapam Scam, Punishment in Vyapam Scam, MP Crime News, Vyapam Crime News, MP News, Gwalior Crime News
MP Vyapam Scam, Punishment in Vyapam Scam, MP Crime News, Vyapam Crime News, MP News, Gwalior Crime News
social share
google news

MP Vyapam Scam: ग्वालियर में सीबीआई की विशेष अदालत ने आरक्षक भर्ती परीक्षा में हुए फर्जीवाडे के एक मामले में तीन आरोपियों को दोषी पाए जाने पर चार-चार साल की सजा सुनाई है और 42000 का अर्थ दंड भी लगाया है. इस मामले में कुल चार आरोपी थे जिनमें से एक आरोपी सरकारी गवाह बन गया. इस आधार पर तीन आरोपियों को सजा सुनाई गई है. मामला सितंबर 2012 का है.

सितंबर 2012 में हुई आरक्षक भर्ती परीक्षा में मुरैना के रहने वाले दधिबल सिंह ने अपने स्थान पर राजस्थान के धौलपुर में रहने वाले सुनील कुमार को सॉल्वर बनाकर परीक्षा में बिठाया था लेकिन परीक्षा में फोटो मिसमैच हुई और हस्ताक्षर भी सही नहीं थे जिसके आधार पर सुनील कुमार को पर्यवेक्षकों ने पकड़ लिया था.

इसके बाद जब सुनील से पूछताछ की गई तो इस बात का खुलासा हुआ था कि दधिबल सिंह ने आगरा निवासी करतार सिंह से संपर्क किया था और करतार सिंह ने फिरोजाबाद के रहने वाले विजय तोमर को दधिबल सिंह से मिलवाया था.

जिसके बाद विजय तोमर ने परीक्षा में सॉल्वर के रूप में बैठने के लिए सुनील से बात की थी और इसके बाद सुनील को पैसे भी दिलवाए थे. इस बात की पुष्टि सरकारी गवाह बने करतार ने भी की है. जिसके आधार पर विशेष न्यायालय ने इस मामले में दधिबल सिंह समेत सॉल्वर सुनील कुमार और दलाल विजय तोमर को दोषी ठहराया है और उन तीनों को चार-चार साल की सजा सुनाई है और 42000 का अर्थ दंड भी लगाया है.

व्यापमं घोटाले ने बीजेपी सरकार को डाला था मुश्किल में

व्यापमं घोटाला देश का चर्चित घोटाला रहा है, जिसकी वजह से बीजेपी और शिवराज सिंह चौहान की सरकार को कई आरोपों का सामना करना पड़ा था. व्यापमं एक प्रोफेशनल एग्जाम बोर्ड है, जिसका नाम बदलकर प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड और अब कर्मचारी चयन मंडल करना पड़ा. इसका काम सरकारी विभागों के लिए रिक्त पदों को भरने उम्मीदवारों की परीक्षा कराना होता था. लेकिन इसकी आयोजित परीक्षाओं में बड़े स्तर पर धांधलियां सामने आईं और बाद में इसकी सीबीआई जांच चली. जांच के दौरान कई को सजा हुई तो कई की संदेहास्पद परिस्थितियों में मौत भी हुई. कुल मिलाकर व्यापमं ने मप्र सरकार की छवि को खासा नुकसान पहुंचाया था और अब इस मामले में दोषी लोगों को सजाएं मिलना शुरू हो गई हैं.

ADVERTISEMENT

यह भी पढ़ें...

ये भी पढ़ें- CM मोहन यादव की कैबिनेट में कौन हो सकते हैं मंत्री, सूची हो गई दिल्ली में लीक? ये नाम आए सामने

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT