अपना मध्यप्रदेश मुख्य खबरें

7वे अंतरराष्ट्रीय धर्म-धम्म सम्मेलन में राष्ट्रपति ने दिया बुद्ध और पतंजलि का उदाहण, कहीं ये अहम बातें

International Dharma-Dhamma Conference, President Draupadi Murmu, Bhopal, Madhya Pradesh
फोटो: एमपी तक

International Dharma-Dhamma Conference: 7वे अंतरराष्ट्रीय धर्म-धम्म सम्मेलन का आयोजन भोपाल में किया जा रहा है. इसका शुभारंभ राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने किया. इस दौरान राष्ट्रपति ने अपने विचार भी रखे. इस मौके पर मध्यप्रदेश के राज्यपाल मंगुभाई पटेल, मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, संस्कृति मंत्री उषा ठाकुर और सांची बौद्ध-भारतीय ज्ञान अध्ययन विश्वविद्यालय की कुलपति डॉ. नीरजा गुप्ता भी मौजूद रहीं.

तीन दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय धर्म-धम्म सम्मेलन 5 मार्च तक चलेगा, जिसमें 15 देशों के 350 से ज्यादा विद्वान और पांच देशों के संस्कृति मंत्री शामिल हो रहे हैं. इस दिवसीय सम्मेलन में ‘नए युग में मानववाद’ के सिद्धांत पर चर्चा की जाएगी. आज सम्मेलन के शुभारंभ के दौरान राष्ट्रपति मुर्मू ने भी इस विषय पर अपने विचार रखे. राष्ट्रपति से पहले सांची बौद्ध-भारतीय ज्ञान अध्ययन विश्वविद्यालय की कुलपति डॉ. नीरजा गुप्ता, श्रीराम जन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के स्वामी गोविंददेव गिरि महाराज, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और राज्यपाल मंगू भाई पटेल ने भी वक्तव्य दिया.

ये भी पढ़ें: राहुल गांधी पर भड़के केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह, बोले ‘वे PM को नहीं बल्कि देश को गाली दे रहे हैं’

बुद्ध, नानक और पतंजलि का दिया उदारहण
राष्ट्रपति ने अपने उदबोधन के दौरान कहा कि महर्षि पतंजलि, गुरु नानक और भगवान बुद्ध ने दुख से निकलने के मार्ग सुझाए हैं. मानवता के दुख के कारण का बोध करना और उस दुख को दूर करने का मार्ग दिखाना पूर्व के मानववाद की विशेषता है. उन्होंने कहा कि महर्षि पतंजलि ने अष्टांग योग की पद्धति स्थापित की. भगवान बुद्ध ने अष्टांगिक मार्ग प्रदर्शित किया. राष्ट्रपति ने कहा गुरु नानक देव जी ने नाम सिमरन का रास्ता सुझाया, जिसके लिए कहा जाता है- नानक नाम जहाज है, चढ़े सो उतरे पार.

International Dharma-Dhamma Conference, President Draupadi Murmu, Bhopal, Madhya Pradesh
फोटो: एमपी तक

धर्म का जहाज डूबता नहीं- राष्ट्रपति
राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने अंतरराष्ट्रीय धर्म-धम्म सम्मेलन में कहा, धर्म का जहाज हिलता-डुलता है, लेकिन डूबता नहीं है. धर्म-धम्म की अवधारणा भारत चेतना का मूल स्तर रही है. हमारी परंपरा में कहा गया है- धारयति- इति धर्मः, अर्थात जो सब को धारण करता है, वही धर्म है. राष्ट्रपति ने कहा कि धर्म की आधारशिला मानवता पर टिकी है. राग और द्वेष से मुक्त होकर, अहिंसा की भावना से व्यक्ति और समाज निर्माण करना पूर्व के मानववाद का प्रमुख संदेश रहा है. नैतिकता पर आधारित व्यक्तिगत आचरण और समाज पूर्व के मानववाद का व्यवहारिक रूप है. राष्ट्रपति ने कहा कि ऐसी नैतिकता को बचाए रखना हर व्यक्ति का कर्तव्य है.

ये भी पढ़ें: नेता प्रतिपक्ष का गंभीर आरोप- नरोत्तम मिश्रा ने मुझे किताब फेंककर मारी, विधानसभा बनी अखाड़ा

15 देशों के विद्वान शामिल
3 दिनों तक चलने वाले इस अंतर्राष्ट्रीय धर्म-धम्म सम्मेलन में भूटान, मंगोलिया, वियतनाम, नेपाल, दक्षिण कोरिया, मॉरिशस, श्रीलंका, इंडोनेशिया, थाइलैंड, रूस, स्पेन, फ्रांस, अमेरिका और ब्रिटेन जैसे 15 देशों के विद्वान भाग ले रहे हैं. इसमें 5 देशों के संस्कृति मंत्री भी शामिल हुए. कार्यक्रम भोपाल के कुशाभाऊ ठाकरे सभागार में आयोजित किया गया है.

हताश किसानों को मरहम लगाने खेतों में पहुंचे CM शिवराज, किए ये बड़े ऐलान भूतड़ी अमावस्या पर नर्मदा किनारे जुटते हैं तांत्रिक, हाेगी ये खास साधना चैत्र नवरात्र पर मैहर वाली शारदा भवानी माता के दरबार में 9 दिन सजेगा मेला लाडली बहना योजना: अब बहनों को नहीं लगना होगा लाइन में, जानें कैसे? मध्य प्रदेश में ओल्ड पेंशन स्कीम को लेकर मचा है रार, जानें क्या है ओपीएस इंदौर में हुआ दो ‘कैलाशों’ का मिलन, लंच पर हुई लंबी चर्चा, देखें इंदौर की सड़कों पर युवक ने कार से किया स्टंट, पुलिस ने ऐसे पहुंचाया जेल… पिता की मौत के बाद बाबा महाकाल की शरण में उमेश यादव, मांगा आशीर्वाद… रवीना टंडन की बेटी की फिल्म की शूटिंग में ऐसे पड़ गया विघ्न, जानें पेपर लीक कांड में पलट गए शिक्षा मंत्री, घटना के होने से ही किया इनकार एक गांव ऐसा, जहां 400 साल से पैदा नहीं हुए बच्चे, वजह हैरान करने वाली मौसम की मार ने निकाले किसानों के आंसू, प्रदेश भर में हालात खराब धीरेंद्र शास्त्री ने क्यों कहा- जिसे खुजली है आए, हम गोली दे देंगे..? लाडली बहना योजना का लाभ लेने के लिए क्या करना होगा? जानें पूरी डिटेल फसल तैयार, कटने को थी, पर किसानों के ‘सिर मुड़ाते ओले पड़ गए’ मां निर्मला देवी के 100वां जन्मोत्सव की धूम, 21 देशों के कलाकार जुटे, देखें MP में बेमौसम बारिश और ओलावृष्टि से बैठा किसानों का दिल, देखें तस्वीरें ‘बोट’ एंबुलेंस की शुरुआत, नर्मदा किनारे बसे लोगों को देगी जीवनदान रवीना टंडन ने भोजपुर मंदिर पहुंचकर पूजा-अर्चना की, देखें तस्वीरें साम्प्रदायिक सौहार्द की मिसाल हैं अमजद, खुद से पहले गाय को कराते हैं भोजन