आपका जिला मुख्य खबरें

आदिवासी क्षेत्र में मनाते हैं लट्ठमार रंगपंचमी, जानिए क्या है झेंडा पर्व जिसमें महिलाएं करती हैं पुरुषों की पिटाई

Rangpanchami, Madhya Pradesh, Holi, Festival, Burhanpur, Tribal
फोटो: अशोक सोनी

Lathmar Rangpanchami: आपने लट्ठमार होली के बारे में तो सुना होगा, लेकिन बुरहानपुर जिले के एक गांव में लट्ठमार रंगपंचमी मनाई जाती है. रंगपंचमी के दिन जिले के धुलकोट गांव में झेंडा पर्व मनाया जाता है. झेंडा पर्व कुछ हद तक बृज की प्रसिद्ध लट्ठमार होली की तरह होता है. जिसमें महिलाएं पुरुषों की लकड़ी से पिटाई करती हैं. दरअसल इस आदिवासी क्षेत्र में रंगपंचमी के मौके पर महिलाओं और पुरुषों के बीच गांव के चौराहे पर एक प्रतियोगिता की तरह खेल खेला जाता है. महिलाएं पुरुषों को हराने के लिए उनकी पिटाई करती हैं.

रंगपंचमी के मौके पर सारे देश में रंगों की धूम होती है तो वहीं बुरहानपुर जिले के आदिवासी बाहुल्य क्षेत्र धुलकोट ग्राम में रंगपंचमी का पर्व अनोखे तरीके से मनाया जाता है. धुलकोट में रंगपंचमी के दिन झेंडा पर्व मनाते हैं, जिसमें गांव की महिलाएं इकट्ठी होकर पुरुषों की पिटाई करती हैं. आइए जानते हैं कि झेंडा पर्व कैसे मनाया जाता है और इस त्योहार के मौके पर महिलाएं पुरुषों की पिटाई क्यों करती हैं.

ये भी पढ़ें: नचनारियां करती हैं मां जानकी की पूजा, रंगपंचमी पर लगता है मेला; जानिए करीला धाम और मिनी करीला धाम की मान्यता

लकड़ी की बल्ली उखाड़ते हैं पुरुष
झेंडे पर्व के मौके पर शाम के समय महिलाएं और पुरूष ग्राम पंचायत के सामने एकत्रित होते हैं. यहां ग्रामीणों द्वारा एक स्थान पर एक लकड़ी जमीन में गाड़ी जाती है. पुरूषों की टोली लकड़ी को जमीन से निकालने की कवायद करती है, लेकिन जिस समय पुरूषों की टोली लकड़ी की बल्ली को उखाड़ती है, उस समय महिलाओं की टीम लकड़ी की बल्ली को उखड़ने से बचाने के बचाने के लिए पुरूषों पर लकड़ियों की बेंतो से पिटाई करती हैं.

सदियों पुरानी परंपरा
धुलकोट गांव के निवासी मनोज डंगोरे ने बताया कि इस तरह रंगपंचमी मनाने की अनोखी परंपरा के सदियों से चली आ रही है. इसको लट्ठ मार होली भी कहा जाता है. इस दिन महिलाओं का झुंड मे इकठ्ठा होकर पुरूषों की पिटाई करता है. जब पुरुष लोग जमीन में गड़ी हुई लकड़ी को उखाड़ने का प्रयास करते हैं, तो सारे गांव की महिलाएं और युवतियां एक तरफ होती हैं और पुरुषों की पिटाई कर उन्हें लकड़ी उखाड़ने रोकती हैं. इस प्रकार का आयोजन हर साल रंगपंचमी को होता है.

मां पीताम्बरा पर बड़े-बड़े राजनेता क्यों लगाते हैं हाजिरी? जानें मॉलदीव से कम खूबसूरत नहीं MP की संस्कार राजधानी , मन मोह लेंगे प्राकृतिक नजारे उम्र सिर्फ 3 साल और याद है पूरा हनुमान चालीसा, बना वर्ल्ड रिकॉर्ड नीम करोली बाबा का क्या है मध्यप्रदेश कनेक्शन? तस्वीरों से जानें धीरेंद्र शास्त्री और जया किशोरी की शादी को लेकर क्यों हैं इतने चर्चे कौन हैं शिवरंजनी तिवारी? जो धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री को मान चुकी है ‘प्राणनाथ’ सीहोर में बोरवेल में फंसी सृष्टि के रेस्क्यू में आया ये अहम मोड़, जानें केंद्रीय मंत्री की बेटी की Royal Wedding में पहुंचे VVIP, जानें कौन हैं दामाद ऐसा क्या हुआ कि मंडप से उठकर स्टुडेंट्स के बीच क्लास रूम पहुंच गई दुल्हन? चर्चा में हैं MP का ये हनुमान मंदिर, जानें क्याें चक्कर लगा रहे राजनेता ऑनलाइन अंडरगारमेंट खरीदने वाली महिलाओं के लिए ये खबर, हुई चौंकाने वाली वारदात! कान्हा के पास दर्द से तड़पता, गिरता-उठता दिखा बाघ, VIDEO वायरल धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री को मन से अपना पति मान चुकी है MBBS की ये छात्रा ‘जंगल बुक’ के मोगली का है MP से खास रिश्ता! जानें ये दिलचस्प कहानी बगावती तेवर दिखा रहे सचिन पायलट पहुंचे MP, जानें कहां की पूजा कौन हैं रोशनी यादव, जिनकी MP सियासत में हो रही है इतनी चर्चा क्या होता है, जब सबके दुख दूर करने वाले भगवान ही पड़ जाएं बीमार? ये हैं MP के सबसे वैभवशाली किले, रोमांचकारी है इनका इतिहास MP गर्मी में भी नहीं रुकी बारिश, अब जाने कब आएगा मानसून स्कूल में हिजाब का पोस्टर वायरल हुआ तो CM ने दिखाई सख्ती, जानें फिर..