mptak
Search Icon

Lok Sabha Elections: दिग्विजय सिंह ने 77 साल में ऐसा क्या करके सभी को चौंकाया? योगेंद्र यादव ने बता दिया नतीजा

अभिषेक शर्मा

ADVERTISEMENT

Digvijay Singh, Yogendra Yadav
Digvijay Singh, Yogendra Yadav
social share
google news

Digvijay Singh: मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस दिग्गज दिग्विजय सिंह ने भारतीय राजनीति पर बड़ा असर डाला है. यह कहना है वरिष्ठ चुनाव विश्लेषक योगेंद्र यादव का. योगेंद्र यादव ने एमपी तक से चर्चा में कहा कि दिग्विजय सिंह ने जिस तरह से अपनी जिंदगी का आखिरी चुनाव लड़ा है, वह काबिले तारीफ है. मध्यप्रदेश की राजगढ़ लोकसभा सीट से जिस तरह की खबरें सामने आ रही हैं, उनसे जाहिर हो रहा है कि दिग्विजय सिंह ने ठीक वैसे ही ये चुनाव लड़ा है, जैसे कोई मझा हुआ राजनेता अपना चुनाव लड़ता है.

योगेंद्र यादव बताते हैं कि दिग्विजय सिंह की उम्र इस समय 77 साल है. 77 साल की उम्र में दिग्विजय कमाल कर रहे हैं. इतनी अधिक उम्र में भी वे काफी फिट और तेज हैं. उन्होंने राजगढ़ लोकसभा सीट पर जिस तरह से पद यात्रा की और ग्राउंड पर पूरा माहौल उन्होंने अपनी तरफ घुमा दिया, यह बात मुझे बेहद हैरान करती है.

योगेंद्र यादव कहते हैं कि चुनाव परिणाम क्या होंगे, वह तो 4 जून को ही पता चलेगा लेकिन जितनी मेहतन दिग्विजय सिंह ने इस चुनाव के लिए की है, वह कमाल है. दिग्विजय सिंह ने अपने चुनावी दौड़-भाग से सभी को बहुत प्रभावित किया है.

क्यों हो रही है राजगढ़ लोकसभा सीट की इतनी चर्चा

दरअसल दिग्विजय सिंह का मुकाबला यहां पर बीजेपी उम्मीदवार रोडमल नागर से हुआ है. रोडमल नागर पिछले 10 साल से यहां से सांसद हैं और पिछले दो लोकसभा चुनाव से वे यहां पर जीत रहे थे. लेकिन ग्राउंड पर उनकी स्थिति कमजोर थी. क्योंकि 10 साल से सांसद रहने के बाद भी उनकी मौजूदगी अपने संसदीय क्षेत्र में काफी कम रही है. यही वजह है कि जब सीएम मोहन यादव उनके पक्ष में जनसभा करने आए थे उनके सामने ही मंच से रोडमल नागर ने लोगों से माफी मांगी और पीएम नरेंद्र मोदी के नाम पर बीजेपी को वोट करने की अपील की.

ADVERTISEMENT

यह भी पढ़ें...

ये भी पढ़ें- MP Lok Sabha Elections: मध्य प्रदेश की इन 9 सीटों पर बदल जाएंगे सांसद, जान लीजिए कैसे होगा ये बड़ा बदलाव?

अमित शाह को चुनावी मैदान में संभालना पड़ा मोर्चा

यह हाल देखकर खुद गृहमंत्री अमित शाह को चुनावी मैदान में आना पड़ा और उन्होंने राजगढ़ लोकसभा क्षेत्र में एक बड़ी जनसभा की, जिसमें उन्होंने दिग्विजय सिंह को लेकर बोला था कि आशिका का जनाजा है, धूमधाम से निकलना चाहिए. जिसके बाद काफी विवाद हुआ था और अमित शाह ने पूरी कोशिश की थी कि ये चुनाव दिग्विजय सिंह वर्सेज रोडमल नागर के रूप में नहीं बल्कि दिग्विजय सिंह वर्सेज अमित शाह का बन जाए. जिससे बीजेपी उम्मीदवार दिग्विजय सिंह के सामने कमजोर न लगे.

ADVERTISEMENT

दिग्विजय सिंह ने जनता से की ये भावुक अपील

इससे पहले दिग्विजय सिंह ने खुद पूरे लोकसभा क्षेत्र में पद यात्रा निकालकर क्षेत्र में माहाैल को काफी कुछ कांग्रेस की तरफ मोड़ने की कोशिश की थी. दिग्विजय सिंह ने पूरे क्षेत्र में एक भावुक अपील भी की. उन्होंने कहा कि यह उनके जीवन का आखिरी चुनाव है और आखिरी चुनाव में वे अपने गृहक्षेत्र के लोगों का साथ चाहते हैं. दिग्विजय सिंह की इस भावुक अपील का काफी असर भी ग्राउंड पर देखा गया है.

ADVERTISEMENT

ये भी पढ़ें- MP Loksabha Chunav: मध्य प्रदेश में बीजेपी के 'मिशन-29' में रोड़ा बनी ये सीटें? योगेंद्र यादव के दावे के बाद उड़ी BJP की नींद

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT