mptak
Search Icon

CM मोहन यादव फिर दिल्ली दरबार में, बीजेपी का फॉर्मूला तैयार, कौन बनेगा मंत्री?

रवीशपाल सिंह

ADVERTISEMENT

Ram Mandir Pran Pratistha, Chhattisgarh news, Madhya Pradesh news, school news, college news,holiday on 22 january, mp news, Bhopal MP News, mohan yadav, mp government, madhya pradesh, mohan yadav, cm mohan yadav, मध्य प्रदेश,
Ram Mandir Pran Pratistha, Chhattisgarh news, Madhya Pradesh news, school news, college news,holiday on 22 january, mp news, Bhopal MP News, mohan yadav, mp government, madhya pradesh, mohan yadav, cm mohan yadav, मध्य प्रदेश,
social share
google news

Madhya Pradesh Cabinet: मध्य प्रदेश में आज विधानसभा सत्र का आखिरी दिन है. ऐसे में कैबिनेट विस्तार को लेकर चर्चांए तेज हो गई हैं. माना जा रहा है कि अब जल्द ही कैबिनेट का विस्तार किया जा सकता है. आपको बता दें अगले 1 से दो दिन के अंदर विस्तार हो सकता है. यही कारण है कि सीएम मोहन यादव विस्तार के मंथन को लेकर दिल्ली जा रहे हैं. जहां वे जेपी नड्डा और अमित शाह से मुलाकात कर मंत्रिमंडल पर चर्चा करेंगे.

दरअसल सीएम मोहन यादव के सामने कैबिनेट विस्तार सबसे बड़ी चुनौती कई कद्दावर नेताओं के साथ जातिगत समीकरण साधना है. इसी को लेकर वे अपनी रिपोर्ट दिल्ली दरबार में लेकर पहुंच रहे हैं. यहां जेपी नड्डा और अमित शाह से मुलाकात के बाद नामों पर मुहर लग सकती है.संसद सत्र के चलते एमपी के सांसदों से भी सीएम मोहन याद मिल सकते हैं

सीएम मोहन की दूसरी दिल्ली यात्रा

आपको बता दें कि 18 दिसंबर से विधानसभा का सत्र प्रारंभ हुआ है. इसके एक दिन पहले 17 दिसंबर को मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव नई दिल्ली गए थे. वहां भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात करके मध्य प्रदेश के मंत्रिमंडल गठन पर उन्होंने चर्चा की थी, लेकिन उस वक्त मंत्रियों के नाम तय नहीं हो पाए. लिहाजा मुख्यमंत्री एक बार फिर गुरुवार को नई दिल्ली रवाना होने वाले हैं. ऐसी संभावना अधिक है कि दिल्ली से लौटते ही नामों का ऐलान कर दिया जाए.

ये भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में दिखने लगा मोहन ‘राज’ का असर, शिवराज के सबसे खास अफसर पर गिरी गाज

ADVERTISEMENT

यह भी पढ़ें...

कहां फंस रहा पेंच?

भारतीय जनता पार्टी अभी से ही लोकसभा चुनाव की तैयारियों में जुटी हुई है. यही कारण है कि कोई नया फॉर्मूला लाया जा सकता है. ऐसा माना जा रहा है कि हर लोकसभा सीट पर एक मंत्री दिया जा सकता है. तो वहीं इसमें दूसरी अड़चन ये भी है कि कई विधायक 3 और 5 बार चुनाव जीत कर आएं हैं, ऐसे में उनको भी मंत्रिमंडल में शामिल करने पर विचार किया जा रहा है. यही कारण है कि बीजेपी इस पर अभी तक कोई फैसला नहीं कर पाई है. इसके अलावा सिंधिया समर्थक विधायकों को भी मंत्रि बनाने को लेकर चर्चांए हो रही हैं.

ये भी पढ़ें: BJP विधायक दल की बैठक भोपाल में हुई, लेकिन पूर्व CM शिवराज को क्यों रखा बाहर

ADVERTISEMENT

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT