mptak
Search Icon

Exclusive: सिंधिया के कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में आने से किसको हुआ फायदा? खुद ही कर दिया खुलासा

अमित तिवारी

ADVERTISEMENT

Jyotiraditya Scindia Kamal Nath Digvijay singh dispute public power
Jyotiraditya Scindia Kamal Nath Digvijay singh dispute public power
social share
google news

Jyotiraditya Scindia Interview: ज्योतिरादित्य सिंधिया को भरोसा है कि उनके बीजेपी में आने से पार्टी को न सिर्फ लाभ हुआ है बल्कि आने वाले विधानसभा चुनाव में पार्टी पूर्ण बहुमत से जीत दर्ज करने जा रही है. लेकिन सिंधिया के इन दावों में कितना दम है, इसे जानने के लिए MP Tak ने सिंधिया से एक्सक्लूसिव बातचीत की. MP Tak को दिए इस इंटरव्यू में सिंधिया ने कहा, “मध्यप्रदेश की राजनीतिक पिच बैटिंग पिच है और वे इस पिच पर बैकफुट पर नहीं बल्कि फ्रंटफुट पर खेल रहे हैं.”

सिंधिया ने अपने दिल में छुपी महत्वाकांक्षा को लेकर भी बहुत कुछ बोला और कमलनाथ व दिग्विजय सिंह को लेकर भी दिल की बात रखी. MP Tak के सवालों पर क्या बोले सिंधिया, जानने के लिए पढ़े ये एक्सक्लूसिव इंटरव्यू.

1- सिंधिया के बीजेपी में आने से पार्टी को कितना फायदा मिल रहा है?
सिंधिया- वोट बटोरने के माहौल में हम अपने आप को नहीं उतारना चाहते. हम लोग आशीर्वाद यात्रा निकाल रहे हैं. प्रजातंत्र की ताकत में जब आप खुद को ढाल रहे होते हैं तो चुनौती के रूप में खुद को शामिल करके चलना पड़ता ही है. बीजेपी पूर्ण बहुमत के साथ मध्यप्रदेश में सरकार बनाने जा रही है.

ADVERTISEMENT

यह भी पढ़ें...

2- मध्यप्रदेश में इस बार कांग्रेस और बीजेपी में कांटे का मुकाबला है?
सिंधिया– इस देश में कोई भी चुनाव होता है, वह चुनौतीपूर्ण होता है. संघर्षमय होता है. हर चुनाव को संघर्ष के रूप में लेकर ही आगे बढ़ना चाहिए.

3- मध्यप्रदेश की राजनीतिक पिच कैसी दिख रही है?
सिंधिया- बैटिंग पिच है. मैं बैकफुट पर नहीं फ्रंटफुट पर खेल रहा हूं.

ADVERTISEMENT

4- जन आक्रोश यात्रा निकाल रही है कांग्रेस, उस पर क्या कहेंगे?
सिंधिया– हमें आशीर्वाद चाहिए तो आशीर्वाद यात्रा निकाल रहे हैं. कांग्रेसी जनता को बताना चाह रहे हैं कि उनको जनता से कितना आक्रोश है. इसलिए वे निकाल रहे हैं आक्रोश यात्रा. उनके मन में आक्रोश है, हमारे मन में जनता का आशीर्वाद का भाव है.

ADVERTISEMENT

5- मध्यप्रदेश में बड़े पैमाने पर बीजेपी छोड़कर नेता कांग्रेस में जा रहे हैं, कई आपके भी समर्थक हैं?
सिंधिया– चुनाव से दो से तीन महीने पहले ये आना-जाना लगा रहता है. प्रवाह दोनों तरफ से है और दोनों को शुभकामनाएं. व्यक्ति की आशा अगर किसी ओर के साथ जुड़ी हो, तो उनको शुभकामनाएं. जो छोड़कर आए हैं, उनका स्वागत, जो छोड़कर चले गए हैं, उनको शुभकामनाएं.

6- टिकट को लेकर आपके या बीजेपी के समर्थक और कार्यकर्ताओं को उम्मीदें तो रहेंगी ही?
सिंधिया- ये देखना जरूरी है कि सभी को टिकट नहीं मिल सकता. जो जीतेगा, उसी को टिकट मिलेगा बीजेपी में. यहां कोई तेरा-मेरा नहीं हैं, सब हमारे हैं. यहां एक सोच और एक विचारधारा है. यहां कोई नेता नहीं है, सभी कार्यकर्ता हैं और सिंधिया भी यहां कार्यकर्ता है.

7- सिंधिया क्या खुद को सीएम के उम्मीदवार के तौर पर देखते हैं?
सिंधिया-देखिए मेरे परिवार ने राजनीति का पथ नहीं अपनाया लेकिन जनसेवा का पथ अपनाया. जनसेवा को लक्ष्य बनाकर राजनीति को माध्यम बनाया. हमारे नेता शिवराज हैं और उनके ही नेतृत्व में हम लोग चुनाव लड़ रहे हैं, मैं किसी पद की दौड़ में नहीं हूं.

8- महत्वाकांक्षा नहीं है सीएम बनने की?
सिंधिया- महत्वाकांक्षा बहुत है. महत्वाकांक्षा होना बुरी बात नहीं है. लेकिन मेरी महत्वाकांक्षा विकास की है. ग्वालियर, चंबल, महाकौशल, मालवा के लिए मैं क्या कर सकता हूं, इसे लेकर महत्वाकांक्षा जरूर है.

9- मध्यप्रदेश को आपके मंत्रालय से क्या गिफ्ट मिल सकती है?
सिंधिया- रीवा में हवाई अड्‌डा तैयार हो रहा है. दतिया में एयर स्ट्रिप बन रही है. आने वाले 8-9 महीने में इन जिलों में भी विमान उतरेंगे.

10- कमलनाथ और दिग्विजय सिंह के साथ आपके संबंध कैसे हैं?
सिंधिया- जिंदगी दो पल की है. ऐसे में किसी दूसरे व्यक्ति के प्रति द्वेष भाव नहीं रखना चाहिए. मेरे संबंध सभी से ठीक है और इनका भी मैं सम्मान करता हूं. मैं किसी पर व्यक्तिगत टिप्पणी नहीं करूंगा.

11- सोनिया गांधी के साथ आपकी संसद भवन में साथ बैठने की फोटो खूब वायरल है?
सिंधिया– संसद की व्यवस्था है. मुझे वहां बैठाया गया तो वहां बैठा. उनसे नमस्कार हुई, इससे अधिक कुछ भी नहीं है.

12- अतिथि शिक्षकों के लिए ही आप सड़क पर आ गए थे, जब आप कांग्रेस में थे?
सिंधिया- अतिथि शिक्षकों के लिए सीएम शिवराज सिंह चौहान ने मप्र सरकार का खजाना खोल दिया. आज अतिथि शिक्षकों के लिए शिवराज सरकार ने ऐतिहासिक कदम उठाए हैं. मैं दिल की गहराईयों से शिवराज सिंह चौहान को धन्यवाद देता हूं.

ये भी पढ़ेंउमा भारती ने कमलनाथ को याद दिलाई उनकी ‘गलती’, बताया क्यों थे सिंधिया CM पद के प्रबल दावेदार

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT