mptak
Search Icon

उमा भारती क्या नाराज हैं बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्‌डा से? इस विवाद को लेकर उलझे हैं दोनों

एमपी तक

ADVERTISEMENT

Uma Bharti has been challenging the BJP leadership in Madhya Pradesh with hopes of making a comeback. (File photo)
social share
google news

Uma Bharti: उमा भारती एक बार फिर से अपने तीखे तेवर लेकर बीजेपी की राजनीति में हाजिर हैं. काफी दिनों तक यही चलता रहा है कि उमा भारती लोकसभा चुनाव लड़ेंगी. खुद उन्होंने ऐलान कर दिया था कि वे इस बार का लोकसभा चुनाव लड़ेंगी. लेकिन बीजेपी की पहली सूची में उनका नाम नहीं आया. अब उमा भारती कह रही हैं कि उनको चुनाव नहीं लड़ना है. उन्हें तो अगले दो साल गंगा नदी की सफाई का अभियान चलाना है.

लेकिन उमा भारती चाहती हैं कि इस बात को बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्‌डा खुद सार्वजनिक मंच पर आकर कहें. उमा भारती के अनुसार उन्होंने अपनी इस भावना से बीजेपी संगठन मंत्री बीएल संतोष को बता दिया है. लेकिन उनके विचारों को बीजेपी द्वारा सार्वजनिक नहीं किया जा रहा है. इसलिए मजबूरी में उन्हें खुद प्रेस कांफ्रेंस कर ये बातें सार्वजिनक करना पड़ रही हैं.

उमा भारती ने यहां तक कहा है कि यदि बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्‌डा उमा भारती के इस संकल्प को स्वयं जारी नहीं करते हैं तो फिर वे जेपी नड्‌डा को लिखे गए उन पत्रों को सार्वजनिक कर देंगी, जिसमें उन्होंने गंगा सफाई अभियान के असफल होने के कारणों के बारे में बताया है और अब वे कैसे इसे ठीक करेंगी इस बारे में भी पत्र में लिखा गया है.

जेपी नड्‌डा करें मेरा सम्मान- उमा भारती

उमा भारती ने मीडियाकर्मियों से चर्चा में कहा कि जब बीजेपी ने उनको पार्टी से निकाल दिया था, तब बीजेपी के कई दिग्गज मेरे खिलाफ थे लेकिन उस समय नितिन गडकरी, पीएम नरेंद्र मोदी मेरे समर्थन में थे और इनकी वजह से बीजेपी में दोबारा वापस आई. इन लोगों ने मेरा बहुत सम्मान किया है. इसी तरह जगत प्रकाश नड्‌डा को भी मेरा सम्मान रखना चाहिए.

ADVERTISEMENT

यह भी पढ़ें...

उमा भारती ने एक्स पर पोस्ट करके भी बहुत कुछ कहा है

1. कल मैंने अपने सरकारी आवास पर मीडिया को आमंत्रित किया था.

 2. मैंने एक न्यूज़ चैनल पर सुना कि मैं कह रही हूं कि मैं मोदी जी से भी ज्यादा वरिष्ठ हूं आप पूरे ऑडियो वीडियो देख लीजिए, मैंने ऐसा वक्तव्य नहीं दिया.

ADVERTISEMENT

 3. मैं खुद अपनी प्रेस कॉन्फ्रेंस की रिकॉर्डिंग करवाती हूं. मैंने तो यह कहा है कि मैं पार्टी की एक वरिष्ठ एवं सामर्थ्यवान कार्यकर्ता हूं। मोदी जी हमारे देश के प्रधानमंत्री हैं एवं एक अलौकिक व्यक्ति हैं.

ADVERTISEMENT

 4. 1984 की दो सीटों से लेकर पार्टी को आज तक की स्थिति में लाने में जिन्होंने घोर तप किया उनमें से एक मैं भी हूं.

 5. मैने जब 22 जनवरी को अयोध्या में ही यह जानकारी दे दी थी कि मैं अब जिस निश्चय से अशोक सिंघल जी ने रामलला के लिए काम किया, उसी निश्चय से मैं अब दो वर्ष और गंगा जी के लिए काम करूंगी.

 6. मुझे इसीलिए प्रेस बुलानी पड़ी, मुझे इसका दुख भी हुआ कि यह बात सार्वजनिक तौर पर मुझे कहनी पड़ी.

 7. 2019 के समय उस समय के राष्ट्रीय अध्यक्ष की हैसियत से श्री अमित शाह जी ने मेरा बहुत सम्मान करते हुए संसदीय दल में इसकी घोषणा की थी. यही काम हमारे वर्तमान अध्यक्ष करते तो मुझे गर्व होता और गंगा के कार्य में शक्ति मिलती.

 8. मैं गंगा के काम में इसलिए लगी हूं क्योंकि मुझे टिकट नहीं मिला, ऐसा इंप्रेशन क्रिएट करने से तो गंगा जी के कार्य का प्रभाव कम होगा और गंगा जी को बहुत नुकसान करेगा.

 9. अभी चुनाव का समय आ गया, गंगा जी को राजनेतिक द्वंद से परे रखना मेरा कर्तव्य है. पार्टी को जरूरत पड़ेगी तो मैं चुनाव प्रचार में भाग लूंगी तथा चुनाव की समाप्ति होते ही नई सरकार के गठन के बाद सरकार एवं संगठन का सहयोग लेते हुए हम गंगा जी के कार्य का प्रारूप तय करके मैं इसमें सक्रिय होऊंगी.

 10. आज महाशिवरात्रि है. गंगा जी तो शिव जी को इतनी प्रिय हैं कि वह उनको अपने माथे पर धारण किए हुए हैं. उन गंगा जी के कार्य के लिए मैंने जो दो वर्ष पुनः देने का तय किया है, मैं गंगा जी का कार्य शक्तिशाली होकर निर्विघ्न करती रहूंगी, इसके लिए आप सभी लोग मुझे संबल प्रदान कीजिए, शक्ति प्रदान कीजिए,मेरे लिए प्रार्थना करते रहिए.

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT