mptak
Search Icon

MP के राजस्व मंत्री के क्षेत्र में ही फर्जीवाड़ा, 38 लोगों को बांटे गए फर्जी पट्टे; देते हैं ईमानदारी की दुहाई

नवेद जाफरी

ADVERTISEMENT

mptak
social share
google news

न्यूज़ हाइलाइट्स

point

राजस्व मंत्री करण सिंह वर्मा अक्सर अपने बयानों में अधिकारियों को फटकारते दिखाई देते हैं

point

अब करण सिंह वर्मा के क्षेत्र में ही जमीनों का फर्जीवाड़ा सामने आया है

Karan Singh Verma: मध्यप्रदेश के राजस्व मंत्री करण सिंह वर्मा अक्सर अपने बयानों में अधिकारियों को गरियाते दिखाई देते हैं कि भ्रष्टाचार का मामला यदि सामने आएगा तो वह संबंधित अधिकारी-कर्मचारी के खिलाफ सख्त एक्शन लेंगे लेकिन एक मामला उनकी खुद की विधानसभा क्षेत्र से सामने आ गया, जिसमें बड़े पैमाने पर जमीनों का घोटाला कर दिया गया. अक्सर अपने बयानों में ईमानदारी बरतने और दुनिया से जाने वाले हैं, समय कम है, इसलिए ईमानदारी से जीवन बिताना है, इस टाइप के बयान देने वाले करण सिंह वर्मा अब अपने ही विधानसभा क्षेत्र के भ्रष्टाचार को रोकने में असफल रहे.

इछावर विधानसभा क्षेत्र में फर्जी तरीके से पट्टे बनाए जाने का मामला उजागर हुआ है.. यहां पटवारी ने 38 लोगों को फर्जी तरीके से पट्टे बना दिए. कलेक्टर प्रवीण सिंह ने मामले को संज्ञान लेते हुए पट्टे बनाने वाले पटवारी को निलंबित कर दिया है. मामले की जांच के निर्देश दिए है.

जानकारी के अनुसार मप्र की मोहन सरकार में राजस्व मंत्री करण सिंह वर्मा के इछावर विधानसभा क्षेत्र में पटवारी के द्वारा फर्जी पट्टे बनाए जाने का मामला सामने आया है. आरोप है कि पटवारी ने मोटी रकम लेकर फर्जी पट्टे बना दिए. पटवारी अधिकांश शर्मा ने ऐसे करीब 38 लोगों के फर्जी पट्टे बना दिए.

ये भी पढ़ें: MP News: पूर्व गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा को क्या मिलने जा रही है बड़ी जिम्मेदारी या लंबा होगा इंतजार? जानें

ADVERTISEMENT

यह भी पढ़ें...

फर्जी पट्टों का मामला उजागर हुआ तो कलेक्टर ने शुरू कराई जांच 

पटवारी के द्वारा फर्जी तरीके से पट्टे बनाए जाने का मामला उजागर हुआ तो विभाग में हड़कंप मच गया. कलेक्टर ने जांच के निर्देश दिए है. प्रारंभिक जांच में ही करीब 38 लोगों को पट्टे बनाए जाने की बात आई है. कलेक्टर प्रवीण सिंह ने पटवारी को तुरंत निलंबित कर दिया है. मामले की जांच वरिष्ठ अधिकारियों की टीम बनाकर कराई जा रही है. जिसमें और भी खुलासे होने की संभावना है. वही विभाग ने इन पट्टे धारकों को नोटिस भी जारी कर दिए है.

पट्टा धारकों को नोटिस जारी, पटवारी निलंबित

मामले को लेकर इछावर एसडीएम जमील खान ने मीडिया से बातचीत में कहा कि सरकार की धारणा अधिकार के तहत पट्टों की योजना थी. उसके तहत लोगों ने पट्टों के लिए आवेदन किए थे. जो जांच उपरांत कलेक्टर के समक्ष प्रस्तुत हुए. ऐसे कई मामलों में कलेक्टर के द्वारा स्वीकृति प्रदान नहीं की गई.लेकिन ऐसी जानकारी आई है कि कुछ पट्टों को गलत तरीके से पटवारी ने बना दिए है. हमने उनमें नोटिस जारी किए हैं, उनके दस्तावेजों को चेक किया जाएगा. जांच उपरांत निरस्त किए जाएंगे. मामले में चल रही है.

ADVERTISEMENT

ये भी पढ़ें- MP Politics: क्या होगा गुना से पूर्व सांसद के पी यादव का राजनीतिक भविष्य? क्यों होने लगी चर्चाएं, जानें

ADVERTISEMENT

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT