mptak
Search Icon

कौन हैं रामनिवास रावत? जिन्हें मंत्री बनाने के लिए BJP की मोहन सरकार को करना पड़ा कैबिनेट का विस्तार

रवीशपाल सिंह

ADVERTISEMENT

रामनिवास रावत बने मोहन सरकार में मंत्री
social share
google news

Mohan government second cabinet expansion: मध्य प्रदेश की मोहन सरकार का आज सुबह-सुबह दूसरा मंत्रिमंडल विस्तार किया गया. इस मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर लंबे समय से अटकलों का बाजार गर्म था. जैसा की पहले से तय माना जा रहा था कि इस मंत्रिमंडल विस्तार में कांग्रेस की टिकट पर विजयपुर से विधायक बने रामनिवास रावत को मंत्री बनाया जा सकता है, ठीक वैसा ही हुआ. आज राजभवन में राज्यपाल मंगू भाई पटेल ने रामनिवास रावत को पद और गोपनियता की शपथ दिलाई. 

आपको बता दें रामनिवास रावत ने लोकसभा चुनाव के बीच में ही कांग्रेस छोड़ भारतीय जनता पार्टी का दामन थाम लिया था, ऐसा माना जा रहा था कि उन्हें नेता प्रतिपक्ष और मुरैना लोकसभा सीट से प्रत्याशी न बनाना पार्टी छोड़ने की बड़ी वजह मानी जा रही थी. उनके कांग्रेस छोड़ बीजेपी में जाने को लेकर दिग्विजय सिंह ने भी दावा किया था कि वो कहीं नहीं जाने वाले हैं. लेकिन, कुछ ही समय बाद रावत ने सीएम मोहन के सामने भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता ग्रहण कर ली थी.

ये भी पढ़ें:Mohan Cabinet Expansion: मोहन मंत्रिमंडल में मिली रामनिवास रावत को जगह, मंत्री पद की ली शपथ

ADVERTISEMENT

यह भी पढ़ें...

कौन हैं रामनिवास रावत

रामनिवास रावत विजयपुर सीट से 6 बार के विधायक हैं. इसके अलावा दिग्विजय सरकार में मंत्री भी रह चुके हैं, इसके अलावा वह पूर्व वह पूर्व केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर के के सामने कांग्रेस से ही सांसदी का चुनाव भी लड़ चुके हैं. प्रदेश की राजनीति में अपना दबदबा बनाने वाले रामनिवास ओबीसी नेता के रूप में बड़ा चेहरा हैं और वे प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष भी रह चुके हैं. उनकी नाराजगी का मुख्य कारण कांग्रेस आलाकमान द्वारा अनदेखी और विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष ना बनाया जाना भी माना गया. 

मंत्री बनने से रावत को क्या फायदा?

कांग्रेस से 6 बार के विधायक और पूर्व प्रदेश कांग्रेस कार्यकारी अध्यक्ष रामनिवास रावत के मंत्री बनने के बाद एक अलग कद के नेता के रूप में उभरेंगे. सूत्र बताते हैं कि सरकार में उनकी भूमिका भी तय हो गई है और वह मोहन मंत्रिमंडल में शामिल होकर अपना कद स्वाभाविक रूप से बड़ा करने वाले हैं.

ADVERTISEMENT

पहले भी रावत दिग्गी सरकार में मंत्री पद पर रह चुके हैं और वर्ष 2003 से भाजपा की सरकार रहने के बाद से वे विपक्ष में ही बैठे रहे थे. कमलनाथ सरकार आने के बाद भी उन्हें कोई पद नहीं दिया गया. यही कारण है कि उनकी नाराजगी दिनों-दिन बढ़ती गई. कांग्रेस छोड़ बीजेपी में आने के बाद उन्हें मोहन सरकार में कैबिनेट मंत्री बनाया गया है. ऐसा माना जा रहा है कि जल्द ही रामनिवास रावत विधायक पद से इस्तीफा दे सकते हैं.

ADVERTISEMENT

ये भी पढ़ें:Mohan Cabinet Expansion: आज मोहन सरकार का दूसरा मंत्रिमंडल विस्तार? CM मोहन ने राज्यपाल को सौंपी मंत्रियों की लिस्ट?

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT