अपना मध्यप्रदेश मुख्य खबरें

एमपी में अंधविश्वास: कुपोषित बच्चियों को गर्म सलाख से दागा, अस्पताल में 1 की मौत, दूसरी नाजुक

MP News: मध्य प्रदेश के आदिवासी बहुल शहडोल जिले में दगना कुप्रथा ने दो कुपोषित बच्चियों की जन ले ली. कुपोषित बच्चियों को 40-50 बार इलाज के नाम पर गर्म सलाखों से दागा गया. ताजा मामला सिंहपुर के कठौतिया और उसके पड़ोस के गांव सामतपुर का है, जहां अंधविश्वास के फेर में बीमार दुधमुंही 3 […]
Updated At: Feb 04, 2023 12:54 PM
Shahdol News 2 malnourished baby girls burnt with a hot rod superstition both died hospital
शहडोल: दागने के बाद कुपोषित बच्ची को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती किया गया था. फोटो: रावेंद्र शुक्ला, एमपी तक.

MP News: मध्य प्रदेश के आदिवासी बहुल शहडोल जिले में दगना कुप्रथा ने दो कुपोषित बच्चियों की जन ले ली. कुपोषित बच्चियों को 40-50 बार इलाज के नाम पर गर्म सलाखों से दागा गया. ताजा मामला सिंहपुर के कठौतिया और उसके पड़ोस के गांव सामतपुर का है, जहां अंधविश्वास के फेर में बीमार दुधमुंही 3 माह की दो बच्चियों को गर्म सलाखों से बार-बार दागा गया, हालत बिगड़ने पर परिजन उसे मेडिकल कॉलेज ले आये, जहां एक बच्ची की उपचार के दौरान मौत हो गई. वहीं दूसरी की हालत नाजुक बनी हुई है.

हालांकि बालिका की मौत पर प्रशासन ने माना कि बच्ची को दागा गया था, लेकिन प्रशासन के अनुसार उसकी मौत निमोनिया से हुई है. अब प्रशासन के दावों के बीच उठ रहे सवाल के चलते कलेक्टर के निर्देश पर 3 फरवरी की शाम बालिका के शव को दफन की गई जगह से बाहर निकाला गया, जहां से अब उसे पोस्टमार्टम के लिए भेजा जाएगा. जिससे उसकी मौत के सही कारणों का पता लगाया जा सके.

दूसरा मामला- तीन माह की बच्ची को गर्म सलाखों से दागा, हालत नाजुक
कठौतिया के पड़ोस के गांव सामतपुर में एक और बच्ची को इलाज के नाम पर 24 बार गर्म सलाखों से दाग दिया गया. जिस गांव में दागने से बालिका की मौत हुई, उससे 3 किमी दूर गांव में बालिका के साथ यह क्रूरता हुई. बालिका को मेडिकल कॉलेज शहडोल में भर्ती कराया गया, जहां हालत नाजुक बनी हुई है. बाद में परिजन मेडिकल कॉलेज से निजी अस्पताल ले गए. बताया गया है कि तीन माह की शुभी कोल को सांस लेने में समस्या थी. मां सोनू कोल व पिता सूरज कोल गांव में झोलाछाप के यहां इलाज कराए लेकिन राहत नहीं मिली. बाद में मेडिकल कॉलेज लेकर पहुंचे. बताया गया कि लगातार बीमार होने पर गांव की एक महिला ने गर्म सलाखों से दागा था.

मंडला में सड़क डिवाइडर हटाने के लिए गुस्साए लोगों ने सड़क पर रखा शव, जमकर हंगामा

आदिवासी समुदाय में अब भी चल रही है दगना प्रथा
आदिवासी बाहुल्य जिला शहड़ोल में दगना कुप्रथा आज खत्म होने का नाम नहीं ले रही है.जन्म के समय से कुपोषित बच्चों को अंध विश्वास के चलते आदिवासीयों में गर्म लोहे से दागने की प्रथा है. आदिवासी समुदाय में गर्भवती महिलाओं की सही देखभाल न होने के चलते कई बार कुपोषित बच्चे पैदा होते हैं. जिनका जन्म के समय से ही बहुत कम वजन रहता है. मांस हड्डियों से चिपका रहता है. ऐसे बच्चों के इलाज के लिए जिला अस्पतालों में कुपोषण पुनर्वास केंद्र बनाए गए हैं. लेकिन, आदिवासी समुदाय में ऐसे बच्चों को अंधविश्वास के चलते दागने की प्रथा है.

इंदौर पुलिस की पहल से 18 माह की मासूम को मिला मां का आंचल, मचल उठी बेटी

इलाज के नाम पर मासूमों को गर्म सलाखों से शरीर में कई जगह दाग दिया जाता है. इनका मानना है कि ऐसा करने से बच्चा ठीक हो जाएगा. लेकिन यह दर्दनाक इलाज बच्चों की जान के लिए खतरा बन जाता है

मध्य प्रदेश की लेटेस्ट खबरों से अपडेट रहने के लिए Mp Tak पर क्लिक करें
ये है विकास दिव्यकीर्ति सर की फेवरेट फिल्म, नाम जानकर रह जाएंगे दंग IAS बहन की शादी में खूबसूरत लुक में नजर आईं टीना डाबी, देखें तस्वीरें बेहद कंजूस होते हैं इन तारीखों को जन्में लोग, पाई-पाई का रखते हैं हिसाब इस मूलांक वाली लड़कियों की किस्मत में होती है बेवफाई, प्यार में मिलता है धोखा जन्नत जैसे खूबसूरत हैं MP ये 2 गांव, कश्मीर-गोवा से होती है तुलना घमंडी और जिद्दी होती हैं इन तारीखों को जन्मीं लड़कियां ससुराल में राज करती हैं इन तारीखों में जन्मीं लड़कियां, मिलता है ढेर सारा प्यार प्यार से ज्यादा पैसे पर मरते हैं इस मूलांक वाले लोग, फायदे के लिए बनाते हैं रिश्ते इस दिन जन्में लोगों में होता है ‘राजयोग’, IAS-IPS बनने की जबर्दस्त काबिलियत शर्मिला टैगोर की हसीन अदाओं पर क्लीन बोल्ड हो गए थे क्रिकेटर टाइगर पटौदी खजुराहो में ऐसा क्या हुआ कि बन गया वर्ल्ड रिकॉर्ड? देखिए खास तस्वीरें पढ़ने में सबसे ज्यादा होशियार होते हैं इस मूलांक वाले लोग, बनते हैं बड़े अफसर जब लगे कि जिंदगी में अब कुछ नहीं बचा, तब दिव्यकीर्ति सर का ये सूत्र पार लगा देगा नैया गुस्से में आगबबूला हो जाते हैं इस तारीख को जन्में लोग, पलभर में तोड़ देते हैं रिश्ते खूबसूरती में IAS टीना डाबी को टक्कर देती हैं MPPSC टॉपर प्रिया पाठक, देखें तस्वीरें इस तारीख को जन्म लेने वाली लड़कियों में होता है IAS बनने का जन्मजात गुण वसंत में खिल जाती है ‘सतपुड़ा की रानी’, इस हिल स्टेशन की खूबसूरती देख रह जाएंगे हैरान बला की खूबसूरत होती हैं इस तारीख में जन्मीं लड़कियां, ऐश्वर्या का नाम भी है इस लिस्ट में बॉलीवुड की कौन सी एक्ट्रेस है विकास दिव्यकीर्ति की पहली पसंद? जान लीजिए करोड़ों में खेलते हैं इस तारीख को जन्में लोग, टाटा-अंबानी भी इस लिस्ट में