मुख्य खबरें राजनीति

यादें: शरद यादव ने एमपी में सीखा राजनीति का ककहरा, बिहार में हासिल किया रुतबा

Sharad Yadav Death: जदयू के पूर्व अध्यक्ष शरद यादव का गुरुवार रात 75 साल की उम्र में निधन हो गया. दिल्ली के छतरपुर में उनके आवास पर पर्थिव शरीर अंतिम दर्शन के लिए रखा गया है. गृहमंत्री अमित शाह, राहुल गांधी, हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्‌टर ने उन्हें उनके निवास पहुंचकर श्रद्धांजलि दी. उनकी […]
Updated At: Jan 13, 2023 13:09 PM
Sharad Yadav Death, MP News, Hoshangabad News

Sharad Yadav Death: जदयू के पूर्व अध्यक्ष शरद यादव का गुरुवार रात 75 साल की उम्र में निधन हो गया. दिल्ली के छतरपुर में उनके आवास पर पर्थिव शरीर अंतिम दर्शन के लिए रखा गया है. गृहमंत्री अमित शाह, राहुल गांधी, हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्‌टर ने उन्हें उनके निवास पहुंचकर श्रद्धांजलि दी. उनकी अंतिम इच्छा के मुताबिक, कल होशंगाबाद के बाबई तहसील के आंखमऊ गांव में उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा.

हर साल होली पर गांव आते थे और यहां के लोगों के साथ होली खेलते और अपने गांव समेत आसपास के चार पांच गांवों को भोजन कराते थे. शरद यादव की अंतिम इच्छा थी कि उनका अंतिम संस्कार उनके गृह गांव आंखमऊ के बगीचे में कराया जाए. उनके भतीजे शैलेश यादव ने बताया कि उनका पार्थिव शरीर सुबह 9 बजे पहुंचेगा और हम उनकी अंतिम संस्कार की तैयारी कर रहे हैं. उनका अंतिम संस्कार उसी बगीचे में हाेगा, जहां वह बचपन में खेले. जब भी आते तो इसी बगीचे में घूमते थे और गांव और क्षेत्र के लोगों से हालचाल लिया करते थे.

वह (शरद यादव) जब गांव आते और यहां से जाने लगते तो एक बात बार-बार दोहराया करते थे… भीनी भीनी तेरी यादें, दिल में संजोकर जाता हूं… शरद यादव ने मध्य प्रदेश के जबलपुर से राजनीतिक जीवन की शुरुआत की और यहां से पहली बार सांसद बने, इसके बाद बिहार में राजनीतिक रुतबा हासिल किया और फिर वह तीन दशक तक बिहार की राजनीति की धुरी बन रहे.

Sharad yadav Death
तस्वीर: जितेंद्र वर्मा, एमपी तक

पहली बार जबलपुर से बने सांसद 
उनका राजनीतिक करियर तो छात्र राजनीति से ही शुरू हो गया था, लेकिन सक्रिय राजनीति में उन्होंने साल 1974 में पहली बार जबलपुर लोकसभा सीट से चुनाव लड़ा. यह सीट हिंदी सेवी सेठ गोविंददास के निधन से खाली हुई थी. जेपी आंदोलन का था. जेपी ने उन्हें हल्दर किसान के रूप में जबलपुर से अपना पहला उम्मीदवार बनाया था. शरद इस सीट को जीतने में कामयाब रहे और पहली बार संसद भवन पहुंचे. इसके बाद साल 1977 में भी वे इसी सीट से सांसद चुने गए. उन्हें युवा जनता दल का अध्यक्ष भी बनाया गया. इसके बाद वे साल 1986 में राज्यसभा के लिए चुने गए.

Sharad yadav Death
तस्वीर: जितेंद्र वर्मा, एमपी तक

जबलपुर और मधेपुरा के साथ ही यूपी के बदायूं से भी एक बार रहे सांसद 
शरद यादव तीन राज्यों से लोकसभा का चुनाव जीत चुके हैं. बिहार के मधेपुरा से 4 बार, मध्यप्रदेश के जबलपुर से 2 बार और उत्तर प्रदेश के बदायूं से 1 बार सांसद चुने गये. राज्यसभा जाने के तीन साल बाद 1989 में उन्होंने उत्तर प्रदेश की बदायूं लोकसभा सीट से चुनाव लड़ा और जीता भी. यादव 1989-90 तक केंद्रीय मंत्री रहे. उन्हें टेक्सटाइल और फूड प्रोसेसिंग मंत्रालय का जिम्मा सौंपा गया था.

1997 में उन्हें जनता दल का राष्ट्रीय अध्यक्ष चुना गया
1991 में वे बिहार के मधेपुरा लोकसभा सीट से सांसद बनते हैं. इसके बाद उन्हें 1995 में जनता दल का कार्यकारी अध्यक्ष चुना जाता है और साल 1996 में वे 5वीं बार सांसद बनते हैं. 1997 में उन्हें जनता दल का राष्ट्रीय अध्यक्ष चुना जाता है. इसके बाद 1999 में उन्हें नागरिक उड्डयन मंत्रालय का कार्यभार सौंपा गया और 1 जुलाई 2001 को वह केंद्रीय श्रम मंत्रालय में कैबिनेट मंत्री चुने गए. 2004 में वे दूसरी बार राज्यसभा सांसद बने. 2009 में वे 7वीं बार सांसद बने, लेकिन 2014 के लोकसभा चुनाव में उन्हें मधेपुरा सीट से हार का सामना करना पड़ा.

मध्य प्रदेश की लेटेस्ट खबरों से अपडेट रहने के लिए Mp Tak पर क्लिक करें
ये है विकास दिव्यकीर्ति सर की फेवरेट फिल्म, नाम जानकर रह जाएंगे दंग IAS बहन की शादी में खूबसूरत लुक में नजर आईं टीना डाबी, देखें तस्वीरें बेहद कंजूस होते हैं इन तारीखों को जन्में लोग, पाई-पाई का रखते हैं हिसाब इस मूलांक वाली लड़कियों की किस्मत में होती है बेवफाई, प्यार में मिलता है धोखा जन्नत जैसे खूबसूरत हैं MP ये 2 गांव, कश्मीर-गोवा से होती है तुलना घमंडी और जिद्दी होती हैं इन तारीखों को जन्मीं लड़कियां ससुराल में राज करती हैं इन तारीखों में जन्मीं लड़कियां, मिलता है ढेर सारा प्यार प्यार से ज्यादा पैसे पर मरते हैं इस मूलांक वाले लोग, फायदे के लिए बनाते हैं रिश्ते इस दिन जन्में लोगों में होता है ‘राजयोग’, IAS-IPS बनने की जबर्दस्त काबिलियत शर्मिला टैगोर की हसीन अदाओं पर क्लीन बोल्ड हो गए थे क्रिकेटर टाइगर पटौदी खजुराहो में ऐसा क्या हुआ कि बन गया वर्ल्ड रिकॉर्ड? देखिए खास तस्वीरें पढ़ने में सबसे ज्यादा होशियार होते हैं इस मूलांक वाले लोग, बनते हैं बड़े अफसर जब लगे कि जिंदगी में अब कुछ नहीं बचा, तब दिव्यकीर्ति सर का ये सूत्र पार लगा देगा नैया गुस्से में आगबबूला हो जाते हैं इस तारीख को जन्में लोग, पलभर में तोड़ देते हैं रिश्ते खूबसूरती में IAS टीना डाबी को टक्कर देती हैं MPPSC टॉपर प्रिया पाठक, देखें तस्वीरें इस तारीख को जन्म लेने वाली लड़कियों में होता है IAS बनने का जन्मजात गुण वसंत में खिल जाती है ‘सतपुड़ा की रानी’, इस हिल स्टेशन की खूबसूरती देख रह जाएंगे हैरान बला की खूबसूरत होती हैं इस तारीख में जन्मीं लड़कियां, ऐश्वर्या का नाम भी है इस लिस्ट में बॉलीवुड की कौन सी एक्ट्रेस है विकास दिव्यकीर्ति की पहली पसंद? जान लीजिए करोड़ों में खेलते हैं इस तारीख को जन्में लोग, टाटा-अंबानी भी इस लिस्ट में