मुख्यमंत्री कन्यादान योजना में प्रेग्नेंसी टेस्ट कराने पर महिला कांग्रेस का हंगामा, फूंका CM शिवराज का पुतला

डेविड सूर्या

ADVERTISEMENT

Mukhyamantri Kanyadan Yojna, , Pregnancy Test, MP News
Mukhyamantri Kanyadan Yojna, , Pregnancy Test, MP News
social share
google news

Mukhyamantri Kanyadan Yojna: मुख्यमंत्री कन्यादान योजना में कन्याओं के प्रेग्नेंसी टेस्ट कराए जाने का विवाद बढ़ता जा रहा है. अब इसे लेकर महिला कांग्रेस मैदान में उतर आई है. डिंडोरी में महिला कांग्रेस की कार्यकर्ताओं ने इसे लेकर विरोध प्रदर्शन किया. कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने इसे कन्याओं का अपमान बताते हुए सीएम शिवराज सिंह चौहान का पुतला फूंका. साथ ही राज्यपाल को भी ज्ञापन सौंपा है.

मध्यप्रदेश के डिंडोरी जिले में मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के तहत आयोजित सामूहिक विवाह में लड़कियों की प्रेग्नेंसी टेस्ट कराये जाने का मामला सामने आया था, जिसको लेकर स्थानीय कांग्रेस विधायक एवं पूर्व कैबिनेट मंत्री ओमकार मरकाम ने आरोप लगाए थे. मरकाम ने आरोप लगाते हुए कहा था कि जिला प्रशासन के द्वारा मुख्यमंत्री कन्यादान योजना में लड़कियों का मेडिकल टेस्ट के नाम पर कौमार्य परीक्षण किया गया, जिसे लेकर उन्होंने ऐतराज जताया था.

महिला कांग्रेस ने फूंका सीएम का पुतला
डिंडोरी में मुख्यमंत्री कन्यादान योजना में प्रेग्नेंसी टेस्ट कराए जाने को लेकर महिला कांग्रेस ने विरोध प्रदर्शन करते हुए सीएम शिवराज का पुतला फूंका. कांग्रेस की महिला कार्यकर्ताओं के साथ स्थानीय कांग्रेस विधायक एवं पूर्व कैबिनेट मंत्री ओमकार मरकाम भी शामिल थे. आपको बता दें कि मरकाम ने ही इस मामले की ओर ध्यान खींचा था. मरकाम का कहना है की यदि सरकार ने मुख्यमंत्री कन्यादान योजना में कौमार्य परीक्षण करने को लेकर यदि कोई नियम बनाया है तो उसे सार्वजनिक किया जाना चाहिए था.

ADVERTISEMENT

यह भी पढ़ें...

ये है पूरा मामला
डिंडौरी जिले के गाड़ासरई कस्बे में मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के तहत 219 जोड़ों का विवाह कराया जा रहा था, लेकिन इस सामूहिक विवाह समारोह में लड़कियों के प्रेग्नेंसी टेस्ट कराये जाने का आरोप एक वधू ने लगाया. बच्छरगांव निवासी युवती का कहना था कि उसने मुख्यमंत्री कन्यादान योजना में विवाह कराने के लिए फ़ार्म भरा था. जिसके बाद सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में उसका मेडीकल टेस्ट कराया गया और प्रेग्नेंसी टेस्ट भी किया गया. प्रेग्नेंसी रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद उसका नाम सूची से हटा दिया गया था.

ये भी पढ़ें: सरकारी विवाह समारोह में ‘कन्याओ’ का अपमान, 219 भावी दुल्हनों का कराया ‘प्रेग्नेंसी टेस्ट’

ADVERTISEMENT

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT