मुख्य खबरें वीडियो

Karni Sena Protest: समझौता कराने में अरविंद भदौरिया कैसे बने संकटमोचक? जाने पूरा मामला

MP Political News: करणी सेना से बीते दिनों मप्र सरकार का आखिरकार समझौता हुआ. 8 जनवरी से चल रहे इस आंदोलन के समाप्त होने से मप्र सरकार को बड़ी राहत मिली. लेकिन बड़ी संख्या में देशभर से पहुंचे करणी सेना से जुड़े लोगों को आखिर सरकार ने मनाया कैसे? ये बड़ा सवाल राजनीतिक गलियारों में […]
Karni Sena Protest mp politics Bhopal News mp news

MP Political News: करणी सेना से बीते दिनों मप्र सरकार का आखिरकार समझौता हुआ. 8 जनवरी से चल रहे इस आंदोलन के समाप्त होने से मप्र सरकार को बड़ी राहत मिली. लेकिन बड़ी संख्या में देशभर से पहुंचे करणी सेना से जुड़े लोगों को आखिर सरकार ने मनाया कैसे? ये बड़ा सवाल राजनीतिक गलियारों में बना हुआ है.

दरअसल करणी सेना के प्रमुख जीवन सिंह शेरपुर और उनके सदस्यों के साथ मप्र सरकार के सहकारिता मंत्री अरविंद भदौरिया लगातार संपर्क में बने हुए थे. बीते दिनों धरना स्थल पर मप्र सरकार ने अपने कैबिनेट मंत्री अरविंद भदौरिया को ही जीवन सिंह शेरपुर के पास भेजा और उन्होंने जूस पिलाकर उनका आमरण अनशन समाप्त कराया. अरविंद भदौरिया भी क्षत्रिय हैं और चंबल संभाग के नेताओं में प्रमुख स्थान बनाकर रखे हुए हैं. राज्य सरकार ने इस आंदोलन को मैनेज करने के लिए पर्दे के पीछे से अपने सभी क्षत्रिय नेताओं को  लगा दिया था. 

करणी सेना की ये हैं कुछ प्रमुख मांगे, तीन सदस्यीय कमेटी काम 

दोनों पक्षों के बीच 17 मांगों पर एक आम सहमति बनी. इसे लेकर राज्य सरकार ने तीन सदस्यीय कमेटी बनाई है. इस कमेटी में एक अतिरिक्त मुख्य सचिव और दो प्रमुख सचिव शामिल हैं. यह कमेटी अपनी रिपोर्ट दो महीने में सरकार के समझ पेश करेगी. करणी सेना की कुछ प्रमुख मांगे इस प्रकार हैं.

1- सामान्य वर्ग के सभी जरूरतमंदों को उनकी आर्थिक स्थिति के आधार पर आरक्षण मिले.

2-आरक्षण का लाभ किसी भी परिवार या उसके सदस्य को एक बार ही मिले.

3-एससी-एसटी अधिनियम में संसोधन किया जाए.

4- सामान्य वर्ग के किसी भी व्यक्ति की गिरफ्तारी एट्रोसिटी एक्ट के तहत बिना जांच-पड़ताल के ना हो.

5-सामान्य वर्ग के हितों के लिए भी सरकार कानून बनाए.

6- महंगाई और बेरोजगारी कम करने के लिए भी राज्य सरकार काम करे.

दो महीने बाद समझ आएगा, सरकार कितनी मांगों को पूरा कर सकेगी

दरअसल करणी सेना की इन मांगों पर सरकार कितना काम कर पाएगी.यह तो दो महीने के बाद ही मालूम चल सकेगा. करणी सेना और राज्य सरकार दोनों को ही अब तीन सदस्यीय कमेटी की रिपोर्ट का इंतजार रहेगा। रिपोर्ट के आने के बाद ही करणी सेना के इस आंदोलन की आगामी रुपरेखा स्पष्ट होगी. फिलहाल चुनावी साल में मप्र सरकार को इस राजनीतिक संकट से कुछ समय के लिए राहत मिल गई है.

मध्य प्रदेश की लेटेस्ट खबरों से अपडेट रहने के लिए Mp Tak पर क्लिक करें
ये है विकास दिव्यकीर्ति सर की फेवरेट फिल्म, नाम जानकर रह जाएंगे दंग IAS बहन की शादी में खूबसूरत लुक में नजर आईं टीना डाबी, देखें तस्वीरें बेहद कंजूस होते हैं इन तारीखों को जन्में लोग, पाई-पाई का रखते हैं हिसाब इस मूलांक वाली लड़कियों की किस्मत में होती है बेवफाई, प्यार में मिलता है धोखा जन्नत जैसे खूबसूरत हैं MP ये 2 गांव, कश्मीर-गोवा से होती है तुलना घमंडी और जिद्दी होती हैं इन तारीखों को जन्मीं लड़कियां ससुराल में राज करती हैं इन तारीखों में जन्मीं लड़कियां, मिलता है ढेर सारा प्यार प्यार से ज्यादा पैसे पर मरते हैं इस मूलांक वाले लोग, फायदे के लिए बनाते हैं रिश्ते इस दिन जन्में लोगों में होता है ‘राजयोग’, IAS-IPS बनने की जबर्दस्त काबिलियत शर्मिला टैगोर की हसीन अदाओं पर क्लीन बोल्ड हो गए थे क्रिकेटर टाइगर पटौदी खजुराहो में ऐसा क्या हुआ कि बन गया वर्ल्ड रिकॉर्ड? देखिए खास तस्वीरें पढ़ने में सबसे ज्यादा होशियार होते हैं इस मूलांक वाले लोग, बनते हैं बड़े अफसर जब लगे कि जिंदगी में अब कुछ नहीं बचा, तब दिव्यकीर्ति सर का ये सूत्र पार लगा देगा नैया गुस्से में आगबबूला हो जाते हैं इस तारीख को जन्में लोग, पलभर में तोड़ देते हैं रिश्ते खूबसूरती में IAS टीना डाबी को टक्कर देती हैं MPPSC टॉपर प्रिया पाठक, देखें तस्वीरें इस तारीख को जन्म लेने वाली लड़कियों में होता है IAS बनने का जन्मजात गुण वसंत में खिल जाती है ‘सतपुड़ा की रानी’, इस हिल स्टेशन की खूबसूरती देख रह जाएंगे हैरान बला की खूबसूरत होती हैं इस तारीख में जन्मीं लड़कियां, ऐश्वर्या का नाम भी है इस लिस्ट में बॉलीवुड की कौन सी एक्ट्रेस है विकास दिव्यकीर्ति की पहली पसंद? जान लीजिए करोड़ों में खेलते हैं इस तारीख को जन्में लोग, टाटा-अंबानी भी इस लिस्ट में