आपका जिला

छतरपुर: बुंदेलखंड में फाग की है अलग पहचान, गांव-गांव सजती हैं परंपरागत महफिलें, जानें

Chhatarpur news: मोहन भर पिचकारी खींचें… तक कें भर मारी पिचकारी… रंगो के त्योहार होली से ठीक एक सप्ताह पहले से बुन्देलखंड की चौपालों में फागों की धूम मचने लगी है. फाग गायकों की महफिलें भी ग्रामीण इलाकों में सजने लगी हैं. बुंदेलखंड के छतरपुर में होली की अलग ही परंपरा है यहां पर होली […]
bundeli, bundelkhandifaag, chhatarpurnews, mpnews, mptak
फोटो: लोकेश चौरसिया

Chhatarpur news: मोहन भर पिचकारी खींचें… तक कें भर मारी पिचकारी… रंगो के त्योहार होली से ठीक एक सप्ताह पहले से बुन्देलखंड की चौपालों में फागों की धूम मचने लगी है. फाग गायकों की महफिलें भी ग्रामीण इलाकों में सजने लगी हैं. बुंदेलखंड के छतरपुर में होली की अलग ही परंपरा है यहां पर होली के लिए स्थानीय बुंदेली कलाकार एक सप्ताह पहले ही अपनी फाग के माध्यम से होली के रंगों में सुमार हो जाते हैं.

स्थानीय कलाकार होली की फाग गाकर अपनी पुरानी परंपरा को आज भी जीवित रखे हुए हैं, और होली की फागें बुंदेलखंड के छतरपुर से काफी फेमस हैं. जहां पर होली के एक सप्ताह पहले से शुरू हुई परंपरा आगामी रंगपंचमी तक लगातार चलती है. जिसमे कलाकारो की टोलियां जगह-जगह पर अपने अनोखे रंग बिखेरती है. महिलाएं,पुरुष और बच्चे एक साथ एक ही मंच पर फाग गाया करते है. जिनके चेहरे पर गुलाल लगा होता है. और हाथों में साज-बाज उसके बाद चढ़ता है बुंदेली फागों का रंग.

सैकड़ों सालों से गांवों में फाग गाने की परंपरा है कायम
बुन्देलखंड के छतरपुर, पन्ना, टीकमगढ़, दमाेह, सागर, और निवाड़ी के ग्रामीण इलाकों में फाग गाने की परंपरा सैकड़ों सालों से चली आ रही है. फाग गायकों की टोलियां गली कूचों में फाग गाकर होली का उत्साह बढ़ाती है. फाग गायकों ने बताया यह परंपरा सैकड़ों सालों से चली आ रही है. गांवों के धार्मिक स्थलों से ईसुरी फागों का शुभारंभ होता है, फिर इसके बाद ग्रामीण इलाकों के हर गली और मुहल्लों में इसका गायन होता है.

बुंदेली फाग के प्रेणता थे जनकवि ईश्वरी
 बुंदेलखंडी फाग के प्रणेता जनकवि इश्वरी थे. उन्होंने यहां फाग की 32 विधायों का इजाद किया था. बदलते समय के साथ अब यहां के फाग में वो बात तो नहीं रही लेकिन अब भी 8 तरह की फाग की विधा यहां गाई जाती है. जंगला ,पारकी फाग ,चौकड़िया,दहक्वा ,अधर की फाग ,सिंघाव्लोकन और छंददार फाग. इन फागों में हंसी ठिठोली के गीत कृष्ण और राधा के प्रसंग, राम के गीतों को भी गातें हैं.

ये भी पढ़ें: खरगोन: बृज की तर्ज पर मनती है होली, गोपी बनकर नृत्य करती हैं महिलाएं; 40 दिनों तक चलता है रंगों का उत्सव

मध्य प्रदेश की लेटेस्ट खबरों से अपडेट रहने के लिए Mp Tak पर क्लिक करें
ये है विकास दिव्यकीर्ति सर की फेवरेट फिल्म, नाम जानकर रह जाएंगे दंग IAS बहन की शादी में खूबसूरत लुक में नजर आईं टीना डाबी, देखें तस्वीरें बेहद कंजूस होते हैं इन तारीखों को जन्में लोग, पाई-पाई का रखते हैं हिसाब इस मूलांक वाली लड़कियों की किस्मत में होती है बेवफाई, प्यार में मिलता है धोखा जन्नत जैसे खूबसूरत हैं MP ये 2 गांव, कश्मीर-गोवा से होती है तुलना घमंडी और जिद्दी होती हैं इन तारीखों को जन्मीं लड़कियां ससुराल में राज करती हैं इन तारीखों में जन्मीं लड़कियां, मिलता है ढेर सारा प्यार प्यार से ज्यादा पैसे पर मरते हैं इस मूलांक वाले लोग, फायदे के लिए बनाते हैं रिश्ते इस दिन जन्में लोगों में होता है ‘राजयोग’, IAS-IPS बनने की जबर्दस्त काबिलियत शर्मिला टैगोर की हसीन अदाओं पर क्लीन बोल्ड हो गए थे क्रिकेटर टाइगर पटौदी खजुराहो में ऐसा क्या हुआ कि बन गया वर्ल्ड रिकॉर्ड? देखिए खास तस्वीरें पढ़ने में सबसे ज्यादा होशियार होते हैं इस मूलांक वाले लोग, बनते हैं बड़े अफसर जब लगे कि जिंदगी में अब कुछ नहीं बचा, तब दिव्यकीर्ति सर का ये सूत्र पार लगा देगा नैया गुस्से में आगबबूला हो जाते हैं इस तारीख को जन्में लोग, पलभर में तोड़ देते हैं रिश्ते खूबसूरती में IAS टीना डाबी को टक्कर देती हैं MPPSC टॉपर प्रिया पाठक, देखें तस्वीरें इस तारीख को जन्म लेने वाली लड़कियों में होता है IAS बनने का जन्मजात गुण वसंत में खिल जाती है ‘सतपुड़ा की रानी’, इस हिल स्टेशन की खूबसूरती देख रह जाएंगे हैरान बला की खूबसूरत होती हैं इस तारीख में जन्मीं लड़कियां, ऐश्वर्या का नाम भी है इस लिस्ट में बॉलीवुड की कौन सी एक्ट्रेस है विकास दिव्यकीर्ति की पहली पसंद? जान लीजिए करोड़ों में खेलते हैं इस तारीख को जन्में लोग, टाटा-अंबानी भी इस लिस्ट में