आपका जिला भोपाल मुख्य खबरें

अजब-गजब: दहकते अंगारों पर कान पकड़कर क्यों चलते हैं यह लोग? ये कैसी परंपरा, जानें

Holi Special: राजधानी भोपाल के पड़ोसी जिले रायसेन के सिलवानी और बेगमगंज में अनोखी होली मनाई जाती है. दोनों स्थानों पर मनाई जाने वाली होली बरसों पुरानी है. यहां पर ग्रामीण दहकते अंगारों से होकर गुजरते हैं. होली का त्योहार मान्यताओं और परंपराओं का समागम है. देश के अलग-अलग हिस्सों में होली हर्षोल्लास के साथ […]
Updated At: Mar 07, 2023 17:18 PM
Unique Holi Why do villagers come out holding their ears to the burning embers What kind of tradition is this
दहकते अंगारों से निकलते लोग, होली मनाने की अनूठी परंपरा. फोटो- राजेश रजक

Holi Special: राजधानी भोपाल के पड़ोसी जिले रायसेन के सिलवानी और बेगमगंज में अनोखी होली मनाई जाती है. दोनों स्थानों पर मनाई जाने वाली होली बरसों पुरानी है. यहां पर ग्रामीण दहकते अंगारों से होकर गुजरते हैं. होली का त्योहार मान्यताओं और परंपराओं का समागम है. देश के अलग-अलग हिस्सों में होली हर्षोल्लास के साथ मनाई जाती है. कहीं फूलों से होली खेली जाती है, तो कहीं पर लोग एक दूसरे पर लट्ठ बरसाते हुए होली खेलते हैं. लेकिन आपने कभी आग के जलते अंगारों पर चलकर होली खेले जाने के बारे में सुना है. इस पर यकीन कर पाना थोड़ा मुश्किल हो सकता है.

लेकिन रायसेन जिले के एक गांव में होली के दिन अंगारों पर चलने की परंपरा है और यह परंपरा सैकड़ों साल पुरानी है. अंधविश्वास कहें या आस्था, लोगों का मानना है कि इससे ग्रामीण आपदा और बीमारियों से दूर रहते हैं. साथ ही साल भर में की गई गलतियों के लिए कान पकड़कर माफी मांगते हुए अंगारों से निकलते हैं. 

रायसेन जिले की सिलवानी तहसील में आने वाले महगवां गांव में अंगारों से होली खेलने की परंपरा है. होली के दिन यहां के लोग जान जोखिम में डालकर अंगारों पर से निकलते हैं, ग्रामीणों का मानना है कि ऐसा करने से उनका गांव आपदा और दूसरी परेशानियों से सुरक्षित रहता है.

150 साल से चली आ रही है परंपरा
महगवां गांव के लोगों का कहना है कि होली के दिन अंगारों पर चलने की परंपरा उनके गांव में डेढ़ सौ साल से चली आ रही है. गांव के बच्चों से लेकर बुजुर्ग तक नंगे पैर धधकते अंगारों पर ऐसे चलते हैं, मानो सामान्य जमीन पर चल रहे हों. गांव को आपदा से और खुद को बीमारियों और संकटों से दूर रखने के लिए ग्रामीण इस परंपरा को निभाते आ रहे हैं, ग्रामीणों का दावा है कि इतने गरम अंगारों पर चलने के बाद भी न तो उनके पैरों में छाले पड़ते हैं और न ही किसी तरह की तकलीफ होती है.

होलिका दहन के दूसरे दिन होती परंपरा
ग्रामीणों ने बताया कि होलिका दहन के दूसरे दिन यह परंपरा गांव में निभाई जाती है. गांव के चौराहे पर जलते हुए अंगारों पर रखा जाता है. उसके बाद गांव के पुजारी पूजा करते हैं, पूजा के बाद नंगे पैर अंगारों पर निकलने का सिलसिला शुरू होता है. ग्रामीणों का कहना है कि पहले सभी लोग अंगारों पर चलते हैं उसके बाद सभी एक दूसरे को रंग गुलाल लगाते हैं.
हालांकि स्थानीय लोगों का कहना है कि यह परंपरा उनके गांव में कब शुरू हुई, इस बात की कोई सटीक जानकारी तो उनके पास नहीं है. लेकिन बुजुर्ग ग्रामीणों के अनुसार यह परंपरा डेढ़ सौ साल से तो चली आ रही है. इसलिए बुजुर्गों के कहने पर हर साल गांव में यह परंपरा होली पर निभाई जाती है.

ये भी पढ़ें: खरगोन: बृज की तर्ज पर मनती है होली, गोपी बनकर नृत्य करती हैं महिलाएं; 40 दिनों तक चलता है रंगों का उत्सव

इसलिए अंगारों पर कान पकड़कर निकलते हैं लोग
रायसेन जिले के बेगमगंज के सेमरी ग्राम में 500 साल से चल रही हैं अनोखी परम्परा. इस परंपरा को आस्था या अंधविश्वास नही कहा जा सकता हैं, लेकिन लोगों को विश्वास है. सारा हिंदुस्तान एक साथ होलिका दहन करता है और दूसरे दिन रंगों की होली खेलता हैं लेकिन इस गांव में दूसरे दिन होली जलाई जाती हैं और जलती होली के अंगारो में ग्रामीण कान पकड़ कर निकलते हैं. लोगों मानना हैं कि कान पकड़ कर होली के अंगारो में निकलने से गुनाह माफ हो जाते हैं. उनको विश्वास है कि जब भक्त प्रह्लाद को होली नहीं जला सकी तो हमें भी नही जला सकती. हम कान पकड़कर अपने गुनाहों की माफी मांगते हुए अंगारों से निकल जाते हैं. इस होली के अंगारों से बच्चे, युवा और बुजुर्गों एवं महिलाएं भी निकलती हैंए लेकिन पैर किसी के नही जलते हैं.

ये भी पढ़ें: धार: भगोरिया में शामिल हुए विदेशी पर्यटक, पारंपरिक टोपी पहन झूमते नजर आए; कलेक्टर ने बजाया मांदल

मध्य प्रदेश की लेटेस्ट खबरों से अपडेट रहने के लिए Mp Tak पर क्लिक करें
अनूठी है इस IAS कपल की Love Story, सृष्टि देशमुख की पति के साथ खूबसूरत तस्वीरें विकास दिव्यकीर्ति सर के फेवरेट हैं ये नेता, सुनकर रह जाएंगे दंग! बागेश्वर धाम में क्यों लगा सितारों का जमघट? ये है वजह छप्पड़ फाड़ पैसे कमाते हैं इस मूलांक वाले लोग, करोड़पति बनने का होता है योग बहन को खेत में सरसों काटते देख खुद को नहीं रोक पाए DSP साहब, सादगी देख चौंक गए लोग नूरी खान कौन हैं, जिन्होंने लोकसभा चुनाव से ठीक पहले दिया कांग्रेस को बड़ा झटका? समय और मुहूर्त के साथ ये सब कुछ भी बताएगी वैदिक घड़ी, जानें क्यों हो रही चर्चा? मन ही मन प्रेम करती हैं इन तारीखों में जन्मीं लड़कियां, जल्दी नहीं खोलती हैं दिल के राज बेहद इमोशनल होते हैं इन तारीखों को जन्में लोग, रिश्ते भी लंबे नहीं चलते, जानें गोवा-मालदीव सबको फेल कर देंगे MP के ये 2 आईलैंड, मार्च में घूमने के लिए बेस्ट है ये जगह किसान की बेटी में ऐसा क्या पाया कि बहू बना लाए CM मोहन यादव, कौन है वो साधारण सी लड़की? बेहद खूबसूरत होती हैं इस मूलांक वाली लड़कियां, सबके दिलों पर करती हैं राज ये है विकास दिव्यकीर्ति सर की फेवरेट फिल्म, नाम जानकर रह जाएंगे दंग IAS बहन की शादी में खूबसूरत लुक में नजर आईं टीना डाबी, देखें तस्वीरें बेहद कंजूस होते हैं इन तारीखों को जन्में लोग, पाई-पाई का रखते हैं हिसाब इस मूलांक वाली लड़कियों की किस्मत में होती है बेवफाई, प्यार में मिलता है धोखा जन्नत जैसे खूबसूरत हैं MP ये 2 गांव, कश्मीर-गोवा से होती है तुलना घमंडी और जिद्दी होती हैं इन तारीखों को जन्मीं लड़कियां ससुराल में राज करती हैं इन तारीखों में जन्मीं लड़कियां, मिलता है ढेर सारा प्यार प्यार से ज्यादा पैसे पर मरते हैं इस मूलांक वाले लोग, फायदे के लिए बनाते हैं रिश्ते