आपका जिला मुख्य खबरें

रायसेन: 10वीं शताब्दी से मौजूद विश्व के सबसे बड़े शिवलिंग के दर्शन करने श्रद्धालु पहुंचे भोजपुर

RAISEN NEWS: मध्यप्रदेश के रायसेन में स्थित विश्व प्रसिद्ध भोजेश्वर महादेव के दर्शन करने सुबह 7 बजे से ही भक्तों का तांता लग गया था. आपको बता दें कि यह मंदिर 10 बी शताब्दी में राजा भोज द्वारा स्थापित किया हुआ प्राचीन मंदिर है जो विश्व में सबसे बड़े और विशाल शिवलिंग के लिए जाना […]
Raisen News Bhojpur Temple 10th century World's largest Shivling mp news
तस्वीर: राजेश रजक, रायसेन

RAISEN NEWS: मध्यप्रदेश के रायसेन में स्थित विश्व प्रसिद्ध भोजेश्वर महादेव के दर्शन करने सुबह 7 बजे से ही भक्तों का तांता लग गया था. आपको बता दें कि यह मंदिर 10 बी शताब्दी में राजा भोज द्वारा स्थापित किया हुआ प्राचीन मंदिर है जो विश्व में सबसे बड़े और विशाल शिवलिंग के लिए जाना जाता है. दावा किया जाता है कि भोजपुर के अलावा विश्व में इससे बड़ा शिवलिंग कहीं पर भी नहीं है. पुरातत्व विभाग की देखरेख में इस मंदिर की गतिविधियां संचालित होती हैं. महाशिवरात्रि पर दर्शन कराने पुरातत्व विभाग ने विशेष व्यवस्थाएं की थीं.

रायसेन जिले के भोजपुर का भोजेश्वर मंदिर अपने समय की वास्तुकला का एक अद्वितीय उदाहरण है. मंदिर का पूरी तरह भरा हुआ नक्काशीदार गुम्बद और पत्थर की संरचनाएं, जटिल नक्काशी से तैयार किये गए प्रवेश द्वार और उनके दोनों तरफ उत्कृष्टता से गढ़ी गई आकृतियाँ देखने वालों का स्वागत करती हैं. मंदिर की बालकनियों को विशाल कोष्ठक और खंभों का सहारा दिया गया है.

नर्मदा किनारे बसा शिव-पार्वती का अनूठा मंदिर! पुराणों में मिलता है जिसका वर्णन

मंदिर की बाहरी दीवारों और ढाँचे को कभी बनाया ही नहीं गया. मंदिर को गुंबद के स्तर तक बढ़ाने के लिए इस्तेमाल किया गया मिट्टी का रैम्प अभी तक दिखाई पड़ता है. जो इमारत निर्माण कला (चिनाई) में पुरातन बुद्धिमत्ता को दर्शाता है. भोजपुर बलुआ पत्थर की रिज जो मध्य भारत की विशेषता है, उस पर बसाया गया 11 वीं सदी का एक शहर है. यह मध्य प्रदेश के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है. बेतवा नदी पुनः बनाए गए इस प्राचीन शहर के पास बहती है. महाशिवरात्रि पर दर्शन करने के लिए जहां श्रद्धालुओं का ताँता लगा हुआ हैं तो वहीं प्रशासन ने भी पुख्ता इंतेजामात कर रखे हैं.

मंदिर पर किए हैं प्रशासन ने विशेष इंतजाम
एसडीएम गोहरगंज अनिल जैन ने बताया कि महाशिवरात्रि को देखते हुए जिला प्रशासन ने यहां पर विशेष इंतजाम किए हैं. श्रद्धालुओं के वाहनों को 2 किमी. पहले ही पार्किंग में लगवाया जा रहा है और पुलिस बल की मदद से श्रद्धालुओं को एक कतार में करके मंदिर परिसर तक आने दिया जा रहा है. किसी तरह की भगदड़ या अप्रिय स्थिति से निपटने के लिए यहां पर पर्याप्त पुलिस बल को तैनात किया गया है. सभी श्रद्धालु अभी तक आसानी से भगवान के दर्शन कर पा रहे हैं. मंदिर परिसर से कुछ दूरी पर प्रसाद वितरण के स्टॉल लगवाए गए हैं.

मध्य प्रदेश की लेटेस्ट खबरों से अपडेट रहने के लिए Mp Tak पर क्लिक करें

1 Comment

Comments are closed.

कौन हैं निशा बांगरे? जिन्होंने शिवराज सरकार को दे डाली चेतावनी MP के इस टाइगर रिजर्व में हाथियों की क्यों हो रही आवभगत, जानें MP का वो मंदिर जिसके सामने ट्रेन की स्पीड हो जाती स्लो! यहां भविष्य का होता है आभास एशिया कप में ‘प्लेयर ऑफ द सीरीज’ मिलने के बाद बागेश्वर धाम पहुंचा ये क्रिकेटर ओंकारेश्वर में आदि शंकराचार्य की सबसे ऊंची प्रतिमा तैयार, जानें नाम और ऊंचाई MP के इस मंदिर से है पुरानी संसद का खास कनेक्शन, जानें क्यों हो रही चर्चा? एक स्वप्न से जुड़ा है इस गणपति मंदिर के निर्माण का इतिहास, जानें रोचक किस्सा मध्य प्रदेश में यहां पर है हत्यारी खोह, जानें इसके पीछे की दिलचस्प कहानी ओंकारेश्वर में बाढ़ से मची तबाही क्या प्रशासन की लापरवाही का नतीजा? जानें टीना डाबी को लगा पाकिस्तानी महिला का आशीर्वाद? जानें क्यों हो रही चर्चा ट्रैक पर पहली बार दौड़ी भोपाल मेट्रो, इस तारीख को होगा ट्रायल इस गणेश मंदिर में उल्टा स्वास्तिक बनाने से पूरी होती है हर मुराद इंदौर में 22 तारीख को सड़कों पर नहीं दिखेंगी CARS, वजह जान आप कहेंगे, वाह! दोस्ती हो तो ऐसी! एक मुलाकात के लिए बनवा दिया आलीशान महल, जानें आखिर आपको क्यों नहीं मिलेगा ‘लाडली बहना आवास’ योजना का लाभ? मां बनी IAS टीना डाबी, कलेक्टरी के बाद संभालेंगी ये बड़ी जिम्मेदारी बारिश ने मचाया ऐसा तांडव कि जलमग्न हो गया भगवान शिव का ये प्रसिद्ध मंदिर MP का वो संत जो 33 महीने से केवल नर्मदा नदी के जल के सहारे जीवित, जानें MP में बारिश ने मचाई आफत, इन जगहों पर बाढ़ जैसे हालात लाडलियों को 450 रुपये में कैसे मिलेगा गैस सिलेंडर, ये है पूरी प्रक्रिया